अब टैक्सी सेवाओं में भी ‘चीनी को नो एंट्री

0
27
अब टैक्सी सेवाओं में भी 'चीनीÓ को नो एंट्री
अब टैक्सी सेवाओं में भी 'चीनीÓ को नो एंट्री

नई दिल्ली (एजेंसी)। भारत चीन सीमा विवाद बढऩे के कारण आम लोग चीन के खिलाफ आक्रोशित हैं। इसी बीच जानकारी मिली है कि दिल्ली के होटलों और गेस्ट हाउस में चीनी नागरिकों को ठहराने से मना करने के बाद अब दिल्ली में टूर एंड ट्रैवल एसोसिएशन ने भी चीनी नागरिकों को बैन कर दिया है। जिसके बाद अब चीनी नागरिकों को टैक्सी की सेवाएं नहीं मिलेंगी।
दिल्ली टूर एंड टैक्सी ट्रैवल एसोसिएशन के कमल छिब्बर का कहना है कि हम सभी ने एकमत होकर यह तय किया है कि हम किसी भी चीनी नागरिक को अपनी टैक्सी की सुविधा नहीं देंगे। उन्होंने कहा कि इस एसोसिएशन से दिल्ली के 500 से ज्यादा टैक्सी संचालक और टूर एंड ट्रैवल के मालिक जुड़े हुए हैं। इस मामले में सभी हमारे साथ हैं। वहीं कमल ने अपने ऑफिस में चीनी नागरिकों के बैन का एक नोटिस भी लगा दिया है। बात दें कि भारत ने 59 चीनी ऐप्स पर प्रतिबंध लगा दिया है। इनमें टिकटॉक और यूसी ब्राउजर जैसे ऐप्स शामिल हैं। सरकार ने इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी एक्ट के सेक्शन 69ए के तहत इन 59 चीनी ऐप्स पर बैन लगाया है। केंद्र सरकार ने यह कदम ऐसे समय पर उठाया है, जब लद्दाख की गलवान घाटी पर सीमा विवाद कम होने का नाम नहीं ले रहा है। बीते 15 जून को सीमा विवाद में सेना के 20 जवान शहीद हो गए थे, जबकि 70 जवानों को गंभीर चोट लगी थी।
केंद्र सरकार की तरफ से इस फैसले पर जारी बयान में कहा गया है, हमारे पास उपलब्ध जानकारी के मुताबिक, ये ऐप्स कुछ ऐसी गतिविधियों में संलिप्त हैं जो भारत की रक्षा, सुरक्षा, संप्रभुता और अखंडता के लिए हानिकारक है। केंद्र सरकार ने कहा है कि इन ऐप्स का मोबाइल और नॉन-मोबाइल बेस्ड इंटरनेट डिवाइसेज में भी इस्तेमाल नहीं किया जा सकेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here