दम्पत्ति ने फांसी लगाकर दी जान, बिलखता रहा मासूम

0
152

गाजियाबाद। इंदिरापुरम क्षेत्र के ज्ञानखंड में एक हृदयविदारक घटना सामने आयी है। यहां एक जवान पति-पत्नी ने अलग-अलग कमरों में फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। उनका कई घंटे तक अकेला मात्र 9 महीने का बच्चा रोता-बिलखता रह गया।
मिली जानकारी के अनुसार थाना इंदिरापुरम की कालोनी ज्ञान खंड-1 में शुक्रवार की सुबह एक हृदय विदारक सूचना पुलिस को मिली जिसमें बताया गया था के एक पति-पत्नी ने अपने घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है और 9 माह का बच्चा रो रहा है। सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस अधिकारी यह ह्रदय विदारक हादसा देख कर सन्न रह गए।
जानकारी के अनुसार मरने से पहले ग्रेटर नोएडा में रहने वाली अपनी बहन को एसएमएस कर बताया था कि वे आत्महत्या करने जा रहे हैं घर आ जाना घर पर बाबू अकेला रह गया है। इस सूचना पर उसकी बहन शुक्रवार की सुबह घर पहुंची तो भैया और भाभी के शव को देखकर उसके होश उड़ गए। जबकि 9 महीने का भतीजा अकेला बेड पर रो रहा था। उसने यह सूचना स्थानीय पुलिस को दी। सूचना पर मौके पर पहुंचे पुलिस अधिकारी भी यह हादसा देखकर दंग रह गए। उन्होंने पाया कि करीब (30 वर्षीय) निखिल ने बैडरूम में और (29 वर्षीय) उसकी पत्नी पल्लवी ने ड्राइंग रूम में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है तथा उनका 9 माह का बेटा अकेला रो रहा है। यह परिवार ज्ञान खंड 1 के प्लाट नम्बर 348 के फ्लैट संख्या एस-4 में किराए पर रहते थे और मूल रूप से पटना बिहार के रहने वाले थे। दो साल पहले ही इनकी शादी हुई थी। निखिल एक निजी कंपनी में सेल्स मैनेजर की नौकरी करते थे। निखिल की बहन भी ग्रेटर नोएडा में रहती है। बहन के फोन पर एक एसएमएस प्राप्त हुआ था, जिसमें बताया गया था कि सुबह घर पहुंच जाये बाबू अकेला घर पर रह गया है। इसके बाद उसकी बहन सुबह उनके मकान पर पहुंची थी।
एएसपी (क्षेत्राधिकारी) अंशु जैन ने बताया कि पुलिस को सूचना मिली थी कि पति पत्नी ने एक फ्लैट में आत्महत्या कर ली है और एक 9 महीने का बच्चा रो रहा है। सूचना के आधार पर मौके पर पहुंची पुलिस ने दोनों के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। उनके पास से कोई सुसाइड नोट भी बरामद नहीं हुआ है। दोनों ने आत्महत्या किसलिए की अभी यह साफ नहीं हो पाया है। पूरे मामले की गहनता से जांच की जा रही है।