Health Tips- लीवर को मजबूत रखने के लिए करें इन चीजों का सेवन

लिवर को स्वस्थ रखने के उपाय- लिवर शरीर का अत्यंत महत्वपूर्ण अंग होता है। इसका काम है भोजन से प्राप्त पोषक तत्वों को शरीर के विभिन्न हिस्सों में पहुंचाना, तथा खाने के waste material को शरीर से बाहर करना। शरीर को स्वस्थ रखने के लिए लीवर का स्वस्थ होना अत्यंत आवश्यक है। लेकिन कभी-कभी खानपान के गलत तरीके का भुगतान लीवर को करना पड़ता है। हम जो चीज भी खाते हैं उसका सीधा असर हमारे लिवर पर पड़ता है। खाने में यदि तेल मसाले, मिर्च एवं जंक फूड की अधिकता होती है तो इससे लीवर पर दुष्प्रभाव पड़ने की संभावना रहती है।

आज के इस पोस्ट में हम कुछ ऐसे उपाय लेकर आए हैं, जिनका उपयोग हम अपने लिवर को स्वस्थ बनाने के लिए कर सकते हैं। कुछ आसान तरीकों को अपनाकर हम अपने लिवर को स्वस्थ रख सकते हैं। जानते हैं क्या है वो उपाय –

खाने में इस्तेमाल करें फाइबर युक्त चीजें-
फाइबर युक्त भोजन लीवर के लिए अत्यंत लाभदायक होता है। सुबह की शुरुआत आप दलिया, अथवा अन्य किसी फाइबर युक्त भोजन से कर सकते हैं। यह पेट को भरे रखने के साथ फैटी लीवर को कम करने में सहायक होता है। सुबह के खाने में आप ब्रोकोली का भी इस्तेमाल कर सकते है। यह भी एक पौष्टिक आहार होता है।

शरीर को करें डिटॉक्स-
हमारी रसोई में मौजूद हल्दी का इस्तेमाल एंटीसेप्टिक दवाइयों के रूप में भी किया जाता है। हल्दी का काम शरीर को डिटॉक्स करना है। हल्दी का सेवन नियमित तौर पर करने से लिवर को स्वस्थ रखने में सहायता मिलती है ।

ग्रीन टी है लाभदायक –

ग्रीन टी शरीर के लिए बेहद लाभदायक होती है। इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट शरीर को कई तरह की बीमारियों से बचाती है। ग्रीन टी का इस्तेमाल लीवर के लिए लाभदायक हो सकता है। फैटी लीवर की समस्या को दूर करने के लिए छांछ में हींग, जीरा एवं काली मिर्च मिलाकर पीने से लाभ मिलता है।

By Supriya Srivastava

साल 2011 में इलाहाबाद विश्वविद्यालय से मनोविज्ञान विषय से स्नातक एवं साल 2014 में मास्टर ऑफ कंप्यूटर एप्लिकेशन की डिग्री हासिल करने के बाद सुप्रिया श्रीवास्तव ने मुक्त रूप से विभिन्न समाचार पत्रों तथा वेबसाइट के लिये लेखन कार्य करना शुरू किया। इन्होंने 'ज्ञानी पंडित', hindipost.com जैसे प्रख्यात विभिन्न न्यूज तथा पत्रिकाओं के वेबसाइट के लिए कई वर्षों तक लेखन कार्य किया है। लाखों लोगो ने इनके लेखन को पढ़ा है और सराहा भी है। अभी सुप्रिया जी चेतनामंच www.chetnamanch.com के लिए लेखन तथा सम्पादन का कार्य कर रही है।