Saturday, 13 July 2024

केंद्र की सख्ती,असली दूध की श्रेणी से सोया व बादाम मिल्क जैसे वनस्पति पेय हुए बाहर

केंद्र सरकार ने असली दूध बनाम नकली दूध की लड़ाई में सोया मिल्क व बादाम मिल्क को बड़ा झटका देते…

केंद्र की सख्ती,असली दूध की श्रेणी से सोया व बादाम मिल्क जैसे वनस्पति पेय हुए बाहर

केंद्र सरकार ने असली दूध बनाम नकली दूध की लड़ाई में सोया मिल्क व बादाम मिल्क को बड़ा झटका देते हुए उन्हें असली दूध की श्रेणी से बाहर कर दिया है। इस फैसले के बाद अब भारत मे कोई कंपनी वनस्पति आधारित पेय को दूध कह कर नहीं बेच सकेगी।

भारत की खाद्य नियामक संस्था, फूड सेफ्टी स्टैंडर्ड्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया(एफएसएसएआई) ने वनस्पति आधारित पेय पदार्थों मसलन बादाम का दूध,सोया को दूध,अखरोट का दूध आदि बनाने वाली कंपनियों निर्देश दिया है कि वे अपनी प्रचार सामग्रियों और लेबल से मिल्क या दूध शब्द को तत्काल हटा लें। साथ ही ई कामर्स कंपनियों से भी कहा गया है कि वे इन उत्पादों को अपने मिल्क या डेयरी सेक्शन से हटा दें। इसके चलते अब अमेजॉन इंडिया,फ्लिपकार्ड,बिगबास्केट और ग्रोफर्स जैसी ई कामर्स प्लेटफार्म पर डेयरी कटेगरी में बादाम और सोया मिल्क जैसे पेय पदार्थ नहीं मिलेंगे। बतादें कि भारत लंबे समय से डेयरी उद्योग ने इसको लेकर एफएसएसएआई के पास शिकायत दर्ज करा इन्हें डेयरी श्रेणी से बाहर करने की मांग करता रहा था। अब जाकर डेयरी उद्योग को सफलता मिली और असली दूध की श्रेणी से वनस्पति पेयों को बाहर कर दिया गया है।

Related Post