Wednesday, 24 July 2024

Kaithal : सिर्फ नाम से ही नहीं काम से भी हैं फ़कीर चंद…

हमनें अक्सर लोगों को यह कहते सुना है कि इंसान के नाम का असर उसके व्यक्तित्व पर जरुर पड़ता है…

Kaithal : सिर्फ नाम से ही नहीं काम से भी हैं फ़कीर चंद…

हमनें अक्सर लोगों को यह कहते सुना है कि इंसान के नाम का असर उसके व्यक्तित्व पर जरुर पड़ता है और इसी बात को सच कर दिखाया है हरियाणा में Kaithal के रहने वाले फ़कीर चंद ने। उनका नाम वाकई में उनके कामों को दर्शाता है। रोजाना 800-900 रुपये कमाने वाले फ़कीर चंद अपने गुजारे मात्र के लिए 150-200 रुपये अपने पास रखते हैं और शेष कमाई को दान कर देते हैं।

Kaithal

आपको जानकर हैरानी होगी कि ज़ब फ़कीर चंद से यह पूछा गया कि उन्हें इसकी प्रेरणा कहाँ से मिलती है तो उन्होंने जवाब दिया कि, “वे भले ही रतन टाटा जितने बड़े बिजनेसमैन तो नहीं हैं लेकिन उन्हें भी ऐसा लगता है कि दान करने जैसा नेक काम उन्हें भी करना चाहिए।

 

दान के लिए बैंक बैलेंस नहीं दिल होना जरुरी…

एक साधारण से दिखने वाले Kaithal के कबाड़ व्यापारी अब तक 2-4 लाख नहीं बल्कि 35 लाख रुपये दान कर चुके हैं। यही नहीं उन्होंने वृद्धआश्रम में कमरे भी दान किये हैं। चलिए इसी से जुड़ा एक रोचक किस्सा भी आपको बता देते हैं। ज़ब वे वृद्धआश्रम में कमरा दान करने के लिए पहुंचे तो उन्हें देखकर मुख्य कार्यकर्ता ने सोचा कि वे खुद यहाँ रहने के लिए आये हैं। लेकिन ज़ब उन्होंने कार्यकर्ता को बताया कि वे कमरा दान करना चाहते हैं तो उन्हें कार्यकर्ता ने सिर से लेकर पैर तक देखा। ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि वे बेहद साधारण से कपड़े और रहन -सहन को अपनाते हैं।

 

परिवार से मिली सम्पति को भी किया दान

फ़कीर चंद अपनी दैनिक कमाई का एक बड़ा हिस्सा तो दान करते ही हैं लेकिन उन्होंने अपने भाइयों से मिली संपत्ति को भी अपने पास रखना उचित नहीं समझा। उनके भाइयों की कोई संतान न होने के कारण फ़कीर चंद को ही अपने भाई की संपत्ति प्राप्त हुई जिसमें 24 लाख रूपए थे। उन्होंने इसे भी दान में दे दिया। अब तक वे कई मंदिरों, आश्रम और गौ शालाओं में दान तो कर ही चुके हैं और साथ में उन्होंने कई लड़कियों की शादी में भी पैसे दिए हैं।

 

एक कमरे वाले मकान में गुजार दिया जीवन

Kaithal के रहने वाले फ़कीर चंद किसी महापुरुष से कम नहीं हैं। लोगों की हमेशा मदद करने के बारे में सोचने वाला यह शख्स मात्र एक कमरे वाले मकान में रहता है। वे पिछले 25 सालों से कबाड़ का काम कर रहें हैं। फ़कीर चंद का अपने जीवन में एक ही उद्देश्य है कि उनकी कमाई का एक बड़ा हिस्सा हमेशा दान जैसी भलमनसाहत की चीजों में लगना चाहिये।

Bulandshahr News : घर दिलाने के नाम पर 54 लोगों से ठगी करने वाला नटवरलाल गिरफ्तार

Related Post