Tuesday, 21 May 2024

Religious : कब है भगवान विश्वकर्मा की जयंती

भारतीय संस्कृति या फिर पौराणिक काल में विश्वकर्मा को सबसे बड़े सिविल इंजीनियर के रूप में माना जाता है। मान्यताएं…

Religious : कब है भगवान विश्वकर्मा की जयंती

भारतीय संस्कृति या फिर पौराणिक काल में विश्वकर्मा को सबसे बड़े सिविल इंजीनियर के रूप में माना जाता है। मान्यताएं तो यह भी है कि हर साल कन्या संक्रांति के अवसर पर विश्वकर्मा जयंती भी मनाई जाती है। बता दें कि कन्या संक्रांति लगभग 17 सितंबर को ही हर साल मनाई जाती है इसके साथ साथ विश्वकर्मा जयंती भी मनाई जाती है। इस साल विश्वकर्मा पूजा के दिन परिवर्तनी एकादशी भी पढ़ रही है। बता दें कि भगवान विश्वकर्मा को दुनिया का सबसे पहला वास्तुकार भी माना जाता है।

इस साल विश्वकर्मा जयंती 17 सितंबर 2021 शुक्रवार को मनाई जाएगी। हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार भगवान विश्वकर्मा ने ही इंद्रपुरी, हस्तिनापुर, द्वारका, स्वर्ग लोक, लंका, जगन्नाथपुरी जैसे भव्य निर्माण किया था। बताया तो यह भी जाता है कि भगवान शिव के लिए त्रिशूल और विष्णु भगवान के लिए सुदर्शन चक्र भगवान विश्वकर्मा ने ही तैयार करवाया था।

आपने गौर किया होगा कि जितने भी इंजीनियर व तकनीकी क्षेत्र में काम करने वाले लोग विश्वकर्मा भगवान को पूजते हैं। साथ ही साथ हर साल विश्वकर्मा जयंती पर उनकी पूजा करते हैं और अपनी काम करने की वस्तुओं को पूजते हैं।

विश्वकर्मा जयंती के अवसर पर सभी औद्योगिक संस्थानों में विश्वकर्मा भगवान की पूजा अर्चना की जाती है। साथ ही साथ यह भी कहा जाता है कि अगर विश्वकर्मा भगवान की पूजा अर्चना करते हैं तो भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी हो जाती है। विश्वकर्मा पूजा के लाभ के अनुसार व्यापार में तरक्की और उन्नति मिलती है।

मान्यता तो यह भी है कि विश्वकर्मा जयंती पर जो भी तकनीकी क्षेत्र में काम करने वाले लोग अपने औजारों को पूछते हैं तो वह औजार पूरे साल बिना किसी बाधा के बढ़िया तरीके से काम करते हैं।

भगवान विश्वकर्मा की पूजा करना हम सबके लिए बेहद ही जरूरी है। आज के समय में हर कोई कल पुर्जों को इस्तेमाल करता है। जैसे लैपटॉप, मोबाइल फोन,टेबलेट जैसे उपकरणों यह कह सकते हैं कि मशीनों को इस्तेमाल करते हैं। और आज के समय में इन सब के बिना रह पाना काफी मुश्किल हो जाता है। इसलिए भगवान विष्णु की पूजा करना हम सब के लिए लाभदायक माना जाता है।

Related Post