Tuesday, 16 April 2024

सितंबर में शुरू हो जाएगा एशिया का सबसे बड़ा एयरपोर्ट, उड़ने लगेंगी फ्लाइट

Greater Noida News : उत्तर प्रदेश में ग्रेटर नोएडा शहर के पास एशिया का सबसे बड़ा एयरपोर्ट स्थापित हो रहा…

सितंबर में शुरू हो जाएगा एशिया का सबसे बड़ा एयरपोर्ट, उड़ने लगेंगी फ्लाइट

Greater Noida News : उत्तर प्रदेश में ग्रेटर नोएडा शहर के पास एशिया का सबसे बड़ा एयरपोर्ट स्थापित हो रहा है। जेवर एयरपोर्ट के नाम से पहचान बना चुके इस एयरपोर्ट का नाम नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट रखा गया है। जेवर एयरपोर्ट के निकट बन रहे इस एयरपोर्ट को सभी लोग जेवर एयरपोर्ट के नाम से जानेंगे। जेवर एयरपोर्ट भारत ही नहीं बल्कि एशिया का सबसे बड़ा एयरपोर्ट होगा। खबर आ रही है कि जेवर एयरपोर्ट से इसी साल यानी 2024 में फ्लाइट उडऩे लगेगी। जेवर एयरपोर्ट का विधिवत उद्घाटन 29 सितंबर 2024 को हो जाएगा।

सितंबर में होगा जेवर एयरपोर्ट का उद्घाटन

आपको बता दें कि जेवर एयरपोर्ट के उद्घाटन की तारीख तय हो गई है। यमुना औद्योगिक विकास प्राधिकरण (यीडा) के CEO डॉ. अरूणवीर सिंह ने बताया कि जेवर एयरपोर्ट का काम 29 सितंबर 2024 तक पूरा करना है। 29 सितंबर को जेवर एयरपोर्ट से पहली फ्लाइट उड़ा दी जाएगी। जेवर एयरपोर्ट को समय से पूरा करने के लिए 7682 श्रमिक रात-दिन काम कर रहे हैं। नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड के CEO का भी काम संभाल रहे यीडा के CEO डॉ. अरूणवीर सिंह ने बताया कि जल्दी ही जेवर एयरपोर्ट पर एक हजार से अधिक श्रमिक और तैनात किए जाएंगे। इस प्रकार जेवर एयरपोर्ट के निर्माण के कार्य में लगे हुए 7682 श्रमिकों के स्थान पर यह संख्या 8682 हो जाएगी।

Greater Noida News

एशिया का सबसे बड़ा एयरपोर्ट

आपको बता दें कि जेवर एयरपोर्ट भारत का तो सबसे बड़ा एयरपोर्ट होगा ही। साथ ही जेवर एयरपोर्ट एशिया का भी सबसे बड़ा एयरपोर्ट होगा। इतना ही नहीं जेवर एयरपोर्ट दुनिया का चौथा सबसे बड़ा एयरपोर्ट होगा।बात पूरे विश्व की करें तो अमरीका के दो एयरपोर्ट तथा सउदी अरब के एयरपोर्ट के बाद जेवर एयरपोर्ट विश्व का चौथा सबसे बड़ा एयरपोर्ट बनेगा। जेवर एयरपोर्ट यीडा के क्षेत्र में जेवर तथा उसके आसपास के गांवों की जमीन पर स्थापित हो रहा है। जेवर एयरपोर्ट कुल पांच हजार हेक्टेयर जमीन पर बन रहा है।

भारत के अब तक के बड़े से बड़े एयरपोर्ट की बात करें तो देश की राजधानी में स्थापित इन्दिरा गांधी एयरपोर्ट (आईजीआई) 2066 हेक्टेयर जमीन पर बना हुआ है। नवी मुंबई में बन रहा एक और बड़ा एयरपोर्ट 2320 हेक्टेयर जमीन पर स्थापित हो रहा है। जेवर एयरपोर्ट पर अन्तर्राष्ट्रीय कारगो तथा जहाजों को रिपेयर करने वाला रिपेयर सेंटर भी स्थापित हो रहा है। जेवर एयरपोर्ट को सडक़ मार्ग के द्वारा देश की राजधानी से लेकर पूरे पश्चिमी उत्तर प्रदेश तथा लखनऊ से सीधा जोड़ा जा रहा है। इस एयरपोर्ट का रेल मार्ग के द्वारा पूरे देश से जोडऩे की योजना पर भी काम चल रहा है। कुल मिलाकर कहा जा सकता है कि जेवर एयरपोर्ट दुनिया का अनोखा एयरपोर्ट बनेगा।

6 करोड़ यात्री उड़ेंगे जेवर एयरपोर्ट से

यमुना औद्योगिक विकास प्राधिकरण के CEO डॉ. अरुणवीर सिंह ने बताया कि जेवर एयरपोर्ट से वर्ष 2050 तक बीस करोड़ यात्री प्रतिवर्ष उड़ान भरा करेंगे। प्रतिवर्ष उड़ान भरने के मामले में जेवर एयरपोर्ट देश के सभी हवाई अड्डे को पीछे छोड़ देगा। अब तक के प्राप्त आंकड़ों के मुताबिक देश में अब तक के सबसे बड़े एयरपोर्ट आईजीआई से प्रतिवर्ष 6 करोड़ यात्री उड़ान भरते हैं। वर्ष 2024 तक आईजीआई से 10 करोड़ यात्री उड़ान भर सकेंगे। उसके बाद इस एयरपोर्ट की क्षमता नहीं बढ़ सकेगी। जेवर एयरपोर्ट से 2050 तक बीस करोड़ यात्री उड़ान भरेंगे। इस प्रकार हर मामले में जेवर एयरपोर्ट अव्वल साबित होगा।

सीबीआई का बड़ा खुलासा, कुछ भी नहीं मिला सत्यपाल मलिक के घर से

ग्रेटर नोएडा – नोएडा की खबरों से अपडेट रहने के लिए चेतना मंच से जुड़े रहें।

देशदुनिया की लेटेस्ट खबरों से अपडेट रहने के लिए हमें  फेसबुक  पर लाइक करें या  ट्विटर  पर फॉलो करें।

Related Post