Thursday, 13 June 2024

यूनेस्को के रजिस्टर में हमेशा के लिए सुरक्षित रहेगी श्रीरामचरितमानस

Ramacharitamanas Panchatantra Enters UNESCO : भारत में सर्वाधिक पवित्र ग्रंथ के रूप में स्थापित श्रीरामचरितमानस यानि रामायण अब यूनेस्को के…

यूनेस्को के रजिस्टर में हमेशा के लिए सुरक्षित रहेगी श्रीरामचरितमानस

Ramacharitamanas Panchatantra Enters UNESCO : भारत में सर्वाधिक पवित्र ग्रंथ के रूप में स्थापित श्रीरामचरितमानस यानि रामायण अब यूनेस्को के रिकार्ड में हमेशा-हमेशा के लिए सुरक्षित रहेगी। श्रीरामचरितमानस के साथ ही भारत के प्रसिद्ध ग्रंथ पंचतंत्र तथा सहृदयालोक-लोचन को भी यूनेस्को के मेमोरी ऑफ द वल्र्ड एशिया पैसिफिक के रजिस्टर में अंकित कर लिया गया है। भारत के तीन प्रसिद्ध ग्रंथ एक साथ यूनेस्को के रजिस्टर में दर्ज हुए हैं। यह भारत की सांस्कृतिक विरासत के लिए ऐतिहासिक अवसर है। भारत का हर बुद्धिजीवी यूनेस्को के इस फैसले से खुश हुआ है।

सुरक्षित रहेंगे भारत के ग्रंथ यूनेस्को के रजिस्टर में

संयुक्त राष्ट्र शैक्षिक, वैज्ञानिक और सांस्कृतिक संगठन को संक्षिप्त में यूनेस्को कहते हैं। आप इस प्रकार भी कह सकते हैं कि यूनेस्को की फुल फार्म संयुक्त राष्ट्र शैक्षिक वैज्ञानित और सांस्कृतिक संगठन है। इसी यूनेस्को के अधिकारियों ने बताया है कि 7-8 मई को मंगोलियाई राजधानी उलानबटार में आयोजित मेमोरी ऑफ द वर्ल्ड कमेटी फॉर एशिया एंड द पैसिफिक (एमओडब्ल्यूसीएपी) की 10वीं आम बैठक में एक बड़ा फैसला लिया गया है। इस फैसले के तहत भारत के महान ग्रंथ श्रीरामचरितमानस, पंचतंत्र तथा सहृदयालोक लोचन कसे यूनेस्को के रजिस्टर में दर्ज किया गया है। इस फैसले के बाद एक प्रेस विज्ञप्ति में, केंद्रीय संस्कृति मंत्रालय ने कहा कि ये “कालातीत कार्य हैं जिन्होंने भारतीय साहित्य और संस्कृति को गहराई से प्रभावित किया है, देश के नैतिक ताने-बाने और कलात्मक अभिव्यक्तियों को आकार दिया है।” इन साहित्यिक कृतियों ने समय और स्थान से परे जाकर भारत के भीतर और बाहर दोनों जगह पाठकों और कलाकारों पर छाप छोड़ी है।

इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र (आईजीएनसीए) में कला निधि प्रभाग के डीन (प्रशासन) और विभागाध्यक्ष प्रोफेसर रमेश चंद्र गौड़ ने भारत से तीन प्रविष्टियों को सफलतापूर्वक प्रस्तुत किया। मंत्रालय ने कहा, गौर ने सम्मेलन में नामांकन का प्रभावी ढंग से बचाव किया। तीनों कार्यों को यूनेस्को की मेमोरी ऑफ द वर्ल्ड एशिया-पैसिफिक रीजनल रजिस्टर में शामिल किया गया था, जिसे सदस्य-राज्य प्रतिनिधियों द्वारा कठोर विचार-विमर्श और मतदान के बाद 2008 में बनाया गया था।

विश्व निकाय ने 8 मई को एक बयान में कहा कि MOWCAP की 10वीं आम बैठक मंगोलिया के संस्कृति मंत्रालय, यूनेस्को के लिए मंगोलियाई राष्ट्रीय आयोग और बैंकॉक में यूनेस्को क्षेत्रीय कार्यालय द्वारा आयोजित की गई थी। इस वर्ष, MOWCAP क्षेत्रीय रजिस्टर ने “मानव अनुसंधान, नवाचार और कल्पना” का जश्न मनाने की मांग की।

बयान में कहा गया है, 2024 शिलालेखों में वंशावली रिकॉर्ड विशेष रूप से उल्लेखनीय थे, जिसमें मंगोलिया के खलखा मंगोलों के वंशानुगत प्रभुओं का पारिवारिक चार्ट, चंगेज खान का घर शामिल था; साथ ही चीन में हुइझोउ और मलेशिया में केदाह राज्य के समुदाय, क्षेत्रीय पारिवारिक इतिहास को एकत्रित करने के महत्व के प्रमाण के रूप में।

सिंगापुर और हॉन्ग-कॉन्ग के बाद अब नेपाल ने भी लगाया भारत के इन मसालों पर बैन

ग्रेटर नोएडा – नोएडा की खबरों से अपडेट रहने के लिए चेतना मंच से जुड़े रहें।

देशदुनिया की लेटेस्ट खबरों से अपडेट रहने के लिए हमें  फेसबुक  पर लाइक करें या  ट्विटर  पर फॉलो करें।

Related Post