Saturday, 18 May 2024

मार्च में रविवार के दिन भानू सप्तमी का दुर्लभ योग, जाने शुभ पूजा मुहूर्त और महत्व 

Bhanu Saptami 2024 : रविवार के दिन सप्तमी का होना बनता है सूर्य पूजा का विशेष योग. फाल्गुन माह में…

मार्च में रविवार के दिन भानू सप्तमी का दुर्लभ योग, जाने शुभ पूजा मुहूर्त और महत्व 

Bhanu Saptami 2024 : रविवार के दिन सप्तमी का होना बनता है सूर्य पूजा का विशेष योग. फाल्गुन माह में आने वाली कृष्ण पक्ष की सप्तमी के दिन को भानू सप्तमी के रुप में पूजा जाता है. रविवार के दिन होने के कारण यह कई गुना फलदायी होती है. हिंदू धर्म में भानू सप्तमी के दिन का बहुत विशेष महत्व माना गया है. इस दिन किया जाने वाला व्रत शुभ फलों को बढ़ाता है.

सूर्य पूजा एवं व्रत का विशेष नियम भानू सप्तमी के दिन होता है. आइए जानते हैं फाल्गुन मास की भानू सप्तमी के दिन व्रत एवं पूजा नियम का प्रभाव एवं महत्व.

फाल्गुन माह 2024 भानू सप्तमी पूजा मुहूर्त

फाल्गुन माह के कृष्ण पक्ष की भानू सप्तमी 3 मार्च रविवार के दिन मनाई जाएगी. फाल्गुन माह के कृष्ण पक्ष की सप्तमी तिथि का आरंभ 2 मार्च 2024 को 07 बजकर 54 बजे होगा. फाल्गुन माह के कृष्ण पक्ष की सप्तमी तिथि की समाप्ति 3 मार्च 08 बजकर 45 मिनिट पर होगी. ऎसे में 3 मार्च के रविवार के दिन भानू सप्तमी की पूजा एवं व्रत का विधान किया जाएगा.

रविवार के दिन सप्तमी तिथि का योग

धर्म ग्रंथों के आधार पर माना गया है की सप्तमी का दिन सूर्य उपासना हेतु सबसे श्रेष्ठ होता है. इस दिन भगवान सूर्य की पूजा करने से जप तब एवं शौर्य में वृद्धि होती है. सूर्य जो प्रत्येक प्राणी की आत्म का का प्रतीक है. ऎसे में सूर्य उपासना करने से व्यक्ति के भीतर प्राण शक्ति का विकास होता है.

शुभ फलों की प्राप्ति का योग सूर्य सप्तमी

जीवन में व्यक्ति हर प्रकार की बाधाओं को दूर कर लेने में सक्षम होता है. सूर्य उपासना में रविवार के दिन सप्तमी तिथि का योग उत्तम योगों का निर्माण करता है. इस दिन की जाने वाली सूर्य उपासना कई गुना शुभ फलों को देने वाली मानी गई है.

आरोग्य की प्राप्ति हेतु सूर्य उपासना

सूर्य सप्तमी का पूजन स्वास्थ्य हेतु उत्तम माना गया है. यदि किसी का स्वास्थ्य अनुकुल नहीं रहता है तो ऎसे में उस व्यक्ति के लिए सूर्य उपासना करना बहुत ही शुभ होता है. सूर्य को आरोग्य का देवता कहा गया है. सूर्य की पूजा करने से कठिन से कठिन रोग भी शांत हो जाता है.

Bhanu Saptami 2024

असाध्य रोगों की समाप्ति के लिए सूर्य उपासना करने की बात शास्त्रों विशेष रुप से वेदों में प्राप्त होती है. वैदिक साधना में सूर्य साधना को बहुत ही महत्वपूर्ण माना गया है. सूर्य सप्तमी यदि रविवार के दिन हो तो इस दिन व्यक्ति को प्रात:काल समय सूर्य स्नान अवश्य करना चाहिए. ऎसा करने से उसके रोग शांत होते हैं जीवन में शक्ति का संचार होता है. ऊँ सूर्य देवाय नमः
एस्ट्रोलॉजर राजरानी

कब मनाई जाएगी यशोदा जयंती? जानें इस दिन का विशेष महत्व और पूजा मुहूर्त

ग्रेटर नोएडा – नोएडा की खबरों से अपडेट रहने के लिए चेतना मंच से जुड़े रहें।

देशदुनिया की लेटेस्ट खबरों से अपडेट रहने के लिए हमें  फेसबुक  पर लाइक करें या  ट्विटर  पर फॉलो करें।

Related Post