Friday, 21 June 2024

Aditya L-1 : मिलिए सूर्य मिशन की दो प्रमुख महिला वैज्ञानिकों अन्नपूर्णा सुब्रमण्यम और निगार शाजी से

Aditya L-1 News : चंद्रमा पर चंद्रयान-3 की सफल लैंडिंग और 10 दिन बाद ही भारत की ओर से सूर्य…

Aditya L-1 : मिलिए सूर्य मिशन की दो प्रमुख महिला वैज्ञानिकों अन्नपूर्णा सुब्रमण्यम और निगार शाजी से

Aditya L-1 News : चंद्रमा पर चंद्रयान-3 की सफल लैंडिंग और 10 दिन बाद ही भारत की ओर से सूर्य मिशन के लिए आदित्य एल-1 की सफल लॉन्चिंग देखकर पूरा विश्व हैरान है। आइए जानते हैं उन दो प्रमुख महिला वैज्ञानिकों अन्नपूर्णा सुब्रमण्यम और निगार शाजी के बारे में, जिन्होंने आदित्य एल-1 की सफल लॉन्चिंग में महत्वपूर्ण योगदान दिया।

Aditya L-1 News in Hindi

कौन हैं अन्नपूर्णा, जिनमें सूरज के भीतर झांकने की ताकत है

अन्नपूर्णा सुब्रमण्यम संगीत के परिवार से ताल्लुक रखती हैं। अन्नपूर्णा केरल राज्य के पलक्कड़ जिले की गांव की रहने वाली हैं। अन्नपूर्णा सुब्रमण्यम इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ एस्ट्रोफिजिक्स की निदेशक हैं। इस इंस्टीट्यूट ने आदित्य एल-1 मिशन का प्रमुख पेलोड डिजाइन किया है, जो सूर्य में ग्रहण के दौरान भी झांककर अपनी निगाह बनाए रखेगा।

आदित्य एल-1 में क्या है अन्नपूर्णा का योगदान

Aditya L-1 News : अन्नपूर्णा के निर्देशन में की गई डिजाइन का प्रमुख योगदान है कि वह सूर्य के भीतर सूर्य ग्रहण के दौरान भी झांक सकेगा और निरंतर अध्ययन करके भारत के लिए सूर्य के खजाने की ताकत हमें देगा। विश्व में यह पहला मौका होगा कि हिंदुस्तान इस कोरियोग्राफ के माध्यम से सूर्य के भीतर झांक सकेगा।

कौन हैं निगार शाजी, जिन्होंने आदित्य एल-1 मिशन में संभाली प्रमुख कमान

Aditya L-1 News : सूर्य मिशन की कमान संभालने वाली निगार शाजी तमिलनाडु की महिला वैज्ञानिक हैं, जिनका जन्म एक किसान परिवार में हुआ था। निगार शाजी ने अपने बड़े इरादों के साथ तिरुनेवेली गवर्नमेंट इंजीनियरिंग कॉलेज से इलेक्ट्रॉनिक्स इन कम्युनिकेशन में इंजीनियरिंग की डिग्री ली। इसके बाद बिरला इंस्टिट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग टेक्नोलॉजी से मास्टर्स किया।

अपने विज्ञान के सफर का अध्ययन पूरा करते हुए निगार शाजी 1987 में सतीश धवन स्पेस सेंटर से जुड़ गईं। इसी क्रम में निगार शाजी ने यू आर सैटेलाइट टीम में शामिल होने का निर्णय कर लिया। इंजीनियरिंग की डिग्री लेने और बेड लाइन इंस्टीट्यूट आफ इंजीनियरिंग टेक्नोलॉजी से निकलने के बाद निगार शाजी भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) में शामिल हो गईं।

प्रस्तुति: मीना कौशिक

Greater Noida पहली बार ग्रेनो प्राधिकरण के गेटों पर ताला जड़ेंगी महिलाएं

देश-दुनिया की लेटेस्ट खबरों से अपडेट रहने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या  ट्विटर पर फॉलो करें।

ग्रेटर नोएडा – नोएडा की खबरों से अपडेट रहने के लिए चेतना मंच से जुड़े रहें।

Related Post