Tuesday, 28 May 2024

अरुण मौर्य पर पिछले साल पानीपत में दर्ज हुए थे 2 मामले Atiq Ahmed Murder Case

Atiq Ahmed Murder Case चंडीगढ़। गैंगस्टर से नेता बने अतीक अहमद और उसके भाई अशरफ की हत्या के मामले में…

अरुण मौर्य पर पिछले साल पानीपत में दर्ज हुए थे 2 मामले Atiq Ahmed Murder Case

Atiq Ahmed Murder Case चंडीगढ़। गैंगस्टर से नेता बने अतीक अहमद और उसके भाई अशरफ की हत्या के मामले में गिरफ्तार आरोपियों में शामिल अरुण मौर्य पर पिछले साल हरियाणा के पानीपत में अवैध हथियार रखने का मामला दर्ज किया गया था। अधिकारियों ने सोमवार को यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि मौर्य पर फरवरी, 2022 में शस्त्र अधिनियम के तहत और उसी साल मई में एक अन्य मामला दर्ज किया गया था तथा वह जेल भी गया था।

Atiq Ahmed Murder Case

पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि आरोपी कभी हरियाणा के पानीपत और कभी उत्तर प्रदेश के कासगंज स्थित अपने पैतृक गांव कादरवाड़ी में रहता था। पानीपत के पुलिस अधीक्षक अजीत सिंह शेखावत ने फोन पर ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया कि मौर्य के खिलाफ 2022 में दो मामले दर्ज थे। उन्होंने कहा, “फरवरी 2022 में अवैध हथियार रखने के चलते शस्त्र अधिनियम के प्रावधानों के तहत एक मामला दर्ज किया गया था, जबकि दूसरा मामला मई में एक झगड़े को लेकर दर्ज किया गया था।”

जब पानीपत में मौर्य के खिलाफ पहली बार शस्त्र अधिनियम के तहत पहला मामला दर्ज किया गया था तो उसकी उम्र कितनी थी, इस सवाल पर पुलिस अधीक्षक ने जवाब दिया, “हमारे रिकॉर्ड के अनुसार, वह लगभग 18 साल का था।” अधिकारी ने कहा कि वह दोनों मामलों में जमानत पर था। शेखावत ने कहा कि मौर्य का परिवार कासगंज से है, लेकिन उसके दादा पानीपत में काम करते थे।

मौर्य के चाचा सुनील के मुताबिक आरोपी ने मैट्रिक की पढ़ाई की है। पानीपत में रहने वाले सुनील ने पत्रकारों को बताया कि आरोपी का 12 साल का एक भाई है जो छात्र है।

अतीक और उसके भाई की हत्या पर आरोपी के चाचा ने कहा कि घटना के बारे में परिवार को तब पता चला जब हरियाणा पुलिस मौर्य के बारे में पूछताछ करने के लिए उनके घर पानीपत पहुंची। अतीक अहमद (60) और उसके भाई अशरफ को पत्रकारों के रूप में आए तीन लोगों ने शनिवार की रात उस वक्त गोली मार दी जब पुलिसकर्मी उन्हें चिकित्सा जांच के लिए प्रयागराज के एक मेडिकल कॉलेज ले जा रहे थे। प्रयागराज अस्पताल के बाहर मीडिया कर्मियों की मौजूदगी में हुई गोलीबारी के तुरंत बाद हमलावरों – बांदा के लवलेश तिवारी (22), हमीरपुर के मोहित उर्फ ​​सन्नी (23) और मौर्या को गिरफ्तार कर लिया गया।

प्राथमिकी के अनुसार, हमलावरों ने पुलिस को बताया कि उन्होंने अपराध की दुनिया में अपना नाम बनाने के लिए हत्याकांड को अंजाम दिया।

देश विदेश की खबरों से अपडेट रहने लिए चेतना मंच के साथ जुड़े रहें।

देश-दुनिया की लेटेस्ट खबरों से अपडेट रहने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें।

Related Post