Sunday, 25 February 2024

MIT-WHU के छात्र ने बनाई ऑटोड्राइव कार

महाराष्ट्र के पुणे में MIT वर्ल्ड पीस यूनिवर्सिटी के छात्र ने देश की पहली ऑटोड्राइव कार बनाई। कार के बैटरी…

महाराष्ट्र के पुणे में MIT वर्ल्ड पीस यूनिवर्सिटी के छात्र ने देश की पहली ऑटोड्राइव कार बनाई। कार के बैटरी बैकप से 40 किमी तक का सफर आसानी से तय किया जा सकता है। छात्र का कहना है कि मानवीय चूक होने की वजह से होने वाले हादसों को रोकने के आइडिया रखते हुए इसका निर्माण किया गया है। सोमवार को कार को चलाकर देखा गया। बता दें कि यह एक प्रोटोटाइप है, अधिकारिक मंजूरी के बाद कमर्शियल उत्पादन शुरू किया जाएगा। कार के निर्माण में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का इस्तेमाल किया गया है। छात्र ने बताया कि एक बार चार्ज करने के बाद 40 किमी तक चला सकते है। दावा है कि इस कार का निर्माण मेड इन इंडिया के कॉंसेप्ट पर आधारित है। जानकारी के मुताबिक MIT कॉलेज के मैकेनिकल इंजीनियरिंग, इलेक्ट्रॉनिक्स और टेलिकम्यूनिकेशन के छात्रों ने मिलकर निर्माण किया है। छात्र यश देसाई ने बताया कि ऑटोनॉमस व्हीकल लेवल-3 पर आधारित है। बता दें कि बीएलडीसी इलेक्ट्रिक मोटर और लीथियम आयरन फॉस्फेट का प्रयोग बैटरी में किया गया है। देसाई का कहना है कि ऑटोड्राइव कार में स्टीयरिंग व्हील, थ्राटल और ब्रेक को स्पेसल डिजाइन किया गया है। ऑर्टीफिशियल इंटेलिजेंस और मशीन लर्निंग एल्गोरिदम से नियंत्रित रखकर बनाया गया है। कार में सेंसर, लीडर कैमरा, माइक्रोप्रोसेसर, ऑटोमेटिक एक्शन फीचर्स से युक्त है। बता दें कि बैटरी करब 4 घंटे में फुल चार्ज होती है। वाहन का प्रयाग सभी क्षेत्रों में आसानी से किया जा सकता है।

Related Post