Saturday, 15 June 2024

Google DeepMind ने बनाया “GraphCast” AI वेदर फोरकास्टर; चंद सेकंड में बताएगा मौसम का हाल

GraphCast: Google डीपमाइंड ने एक गेम-चेंजिंग मौसम पूर्वानुमान मॉडल पेश किया है। इसका नाम GraphCast है।  कहा जा रहा है…

Google DeepMind ने बनाया “GraphCast” AI वेदर फोरकास्टर; चंद सेकंड में बताएगा मौसम का हाल

GraphCast: Google डीपमाइंड ने एक गेम-चेंजिंग मौसम पूर्वानुमान मॉडल पेश किया है। इसका नाम GraphCast है।  कहा जा रहा है कि यह एक मिनट से भी कम समय में “अभूतपूर्व सटीकता के साथ” अगले 10-दिन की भविष्यवाणी देगा। यह जानकारी मंगलवार को जारी एआई मॉडल पर प्रकाशित रिपोर्ट में दी गई है। रिपोर्ट की मानें, तो यह मॉडल पुराने मौसम मॉडल से कम से कम 90% बेहतर सटीक जानकारी देता है, क्योंकि इसे करीब 40 साल के ऐतिहासिक डाटा पर प्र​शिक्षित किया गया है।

90% सटीकता के साथ अगले 10 दिन के मौसम की देगा जानकारी

Science.org की रिपोर्ट के अनुसार, मौसम पूर्वानुमान में एआई के प्रयोग को वैज्ञानिकों ने ऐसी क्रांति कहा है, जो इस उद्योग को काफी हद तक बदल देगी। इस रिपोर्ट में बताया गया है कि सितंबर में तूफान “ली” के लिए भी इस एआई मौसम फॉरकास्टर मॉडल ने एक भविष्यवाणी की थी, जो कि सही साबित हुई। इसलिए कहा जा रहा है कि यह एआई जलवायु संकट कारगार साबित हो सकता है, क्योंकि यह 90 प्रतिशत सटीकता के साथ परिणाम देगा।

1 मिनट से कम समय में बताएगा मौसम का हाल:

इस रिपोर्ट में दावा किया गया है कि यह मॉडल यूरोपियन सेंटर फॉर मीडियम-रेंज वेदर फोरकास्ट (ECMWF) द्वारा दी जाने वाली हाई-रिज़ॉल्यूशन पूर्वानुमान (HRES) की तुलना में ज्यादा सटीक जानकारी दे सकता है। असल में, गूगल डीप माइंड का यह ग्राफकास्टर “ग्राफ़ न्यूरल नेटवर्क” के जरिए काम करेगा और ईसीएमडब्ल्यूएफ से 40 सालों के पुराने डाटा के आधार पर मौसम की जानकारी देगा। जितना समय किसी व्यक्ति को गूगल कहने में लगता है, यह ग्राफकास्टर उससे भी कम समय में अगले 10 दिन के मौसम की जानकारी देगा। यानी यह एआई मॉडल कुछ सैकंड में जानकारी देगा। यह एआई मॉडल चक्रवात, बाढ़ और बढ़ रहे जलवायु तापमान के बारे में भी जानकारी देगा। इसका मतलब यह है कि अगर भविष्य में कोई घटना होने वाली है, तो यह फॉरकास्टर हमें पहले से ही सूचित कर देगा। इसका फायदा यह होगा कि इसकी सटीक जानकारी के आधार पर हम जलवायु परिवर्तन और प्राकृतिक आपदाओं से और बेहतर ढंग से लड़ पाएंगे।

डीपमाइंड के वैज्ञानिक और साइंस डॉट ओआरजी में छपे इस पेपर के प्रमुख लेखक रेमी लैम ने कहा, “यह GraphCast निश्चित रूप से मौसम की भविष्यवाणी में एक अहम मोड़ साबित होगा। यह इस बात का भी सबूत है कि मशीन लर्निंग और एआई असल में किस हद तक जटिल भौतिक घटनाओं से निपट सकते हैं। उन्होंने कहा कि अभी इस दिशा में और काम बाकी है, लेकिन यह मौसम पूर्वानुमान के क्षेत्र में क्रांति की शुरुआत है।”

बता दें कि इस बीच, Google ने MetNet-3 नाम का एक नया मौसम पूर्वानुमान मॉडल जारी किया है, जो अगले 24-घंटे की मौसम की सटीक जानकारी मुहैया करवाएगा।

फेसबुक मार्केटप्लेस पर विदेशी महिला से ठगी,स्कैमर ने खाते से उड़ाए हजारों डॉलर

Related Post