Saturday, 15 June 2024

एआई में होने वाला है ये बदलाव, इंसानों को कर देगा फेल!

Artificial General Intelligence: आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) जबसे आया है उसने काम करने का तरीका पूरी तरीके से बदल दिया है। जब…

एआई में होने वाला है ये बदलाव, इंसानों को कर देगा फेल!

Artificial General Intelligence: आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) जबसे आया है उसने काम करने का तरीका पूरी तरीके से बदल दिया है। जब कम्प्यूटर आया था तो उसने घंटों का काम मिनटों में बदला था, अब AI के जरिए आप मिनटों का कब सेकेंड में कर सकते हो। क्योंकि अब AI में बड़ा बदलाव आने वाला है। ऐसा कहा जा रहा है कि जल्द ही AI ठीक इंसानों की तरह काम करने लगेगी। अगले चरण में AI इंसानों की तरह ही बात करेगी, तर्क करेगी, योजना बना सकेगी और उसकी याददाश्त भी होगी। जो एक तरीके से देखा जाए तो इंसानों के लिए खतरा हो सकता है। वैसे ओपन एआई (OpenAI) और मेटा प्लेटफॉर्म्स (Meta Platforms) मिलकर जल्द ही एआई के वर्जन 2.0 का ऐलान करने का प्लान बना रहे है।

जल्द आएंगे एआई मॉडल के अपग्रेड वर्जन

मिली जानकारी के अनुसार open AI और मेटा प्लेटफॉर्म्स अपने-अपने AI मॉडल का अपग्रेड वर्जन जल्द ही बाजार में ला सकती हैं। माना जा रहा है कि नया AI मॉडल बड़ी से बड़ी समस्याओं को सुलझा सकता है। साथ ही उनसे कठिन काम भी आसानी से करवा सकते हैं। इस बारें में ओपन एआई के चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर ब्रैड लाइटकैप ने द फाइनेंशियल टाइम्स को दिए एक इंटरव्यू में बताया कि चैट जीपीटी (Chat GPT) का अगला वर्जन तर्क करने में सक्षम होगा। वह अपनी रीजनिंग क्षमता के दम पर कठिन समस्याएं को हल कर सकते है।

Artificial General Intelligence

 रीजनिंग और प्लानिंग करने में होंगे सक्षम

एक रिपोर्ट के मुताबिक यह नए AI मॉडल रीजनिंग के साथ प्लानिंग भी कर सकेंगे। उनमें सोचने और समझने की क्षमता होती है। वह कई आयाम में सोचते हुए समस्याओं जे जबाव ढूंढने पर काम करेंगे। वर्जन 2.0 सिर्फ शब्दों को पढ़कर काम नहीं करेगा। वह इससे बहुत ज्यादा कर सकेंगे। ये आर्टिफिशियल जनरल इंटेलिजेंस (AGI) को हासिल करने की दिशा का बड़ा कदम रखनें वाले है। मेटा AI रिसर्च के वाईस प्रेसिडेंट जोएल पिनाऊ का कहना है कि उनकी कंपनी एआई को बात करने, रीजनिंग करने, प्लानिंग करने और याददाश्त विकसित करने में पर काम कर रही है।

 एक ट्रिलियन डॉलर की हो जाएगी एआई इंडस्ट्री

खबरों के मुताबिक यदि ओपन एआई और मेटा जैसी कंपनियां ऐसे मॉडल विकसित कर लेती हैं तो 2030 तक एआई इंडस्ट्री एक ट्रिलियन डॉलर का आंकड़ा पार कर सकती है। एलन मस्क (Elon Musk) ने हाल ही में कहा था कि आने वाले 2 साल में एआई इंसानों को पीछे छोड़ देगी। ऐसा भी कहा जा रहा है AI आने वालें टाइम में कई फील्ड से इंसानों की नौकारी पर खतरा बन सकती है। Artificial General Intelligence

गूगल क्रोम दे रहा है पेड सर्विस, जानें क्या होगा फायदा?

ग्रेटर नोएडा– नोएडा की खबरों से अपडेट रहने के लिए चेतना मंच से जुड़े रहें।

देश-दुनिया की लेटेस्ट खबरों से अपडेट रहने के लिए हमें  फेसबुक  पर लाइक करें या  ट्विटर  पर फॉलो करें।

Related Post