Tuesday, 21 May 2024

सावधान : साइबर अपराधियों के झांसे में आने से बचें, वरना हाथ मलते रह जाएंगे

Fingerprint Cloning Scam : टेक्नोलॉजी के इस दौर में ऐसा कोई काम नहीं है जो असम्भव हो। जहां एक तरफ…

सावधान : साइबर अपराधियों के झांसे में आने से बचें, वरना हाथ मलते रह जाएंगे

Fingerprint Cloning Scam : टेक्नोलॉजी के इस दौर में ऐसा कोई काम नहीं है जो असम्भव हो। जहां एक तरफ टेक्नोलॉजी के कई फायदे हैं वहीं दूसरी ओर कई नुकसान भी है। दरअसल इन दिनों फिंगरप्रिंट क्लोन स्कैम (Fingerprint Cloning Scam) चर्चाओं का विषय बना हुआ है। दुनियाभर में ऐसे कई शातिर अपराधी है जो अपने शातिर दिमाग का इस्तेमाल करके आपका अकाउंट चुटकियों में खाली करके फुर्र हो सकते हैं।

Fingerprint Cloning Scam

Social Media के दौर में अपराधी, साइबर ठगी करने के लिए ऐसे कई हथकंडे आजमा रहे हैं, जिसकी आपको किसी तरह की जानकारी नहीं है। इन दिनों सोशल मीडिया पर Fingerprint Cloning Scam का विषय गर्माया हुआ है। फिंगरप्रिंट क्लोन स्कैम में साइबर स्कैमर्स बिना पढ़े-लिखे लोगों को अपना निशाना बनाते हैं। इन अपराधियों को केवल आपके थंब इंप्रेशन (Thumb Impression) की जरूरत होती है, जिसे ये बड़े ही शातिर तरीके से ले लेते हैं और आपका अकाउंट मिनटों में खाली करने का हुनर रखते हैं।

भोले-भाले लोगों को बनाते हैं शिकार

आपको बता दें कि साइबर अपराधी (Cyber Criminal) आपके अंगूठे के निशान की मदद से आपके बैंक अकाउंट, आधार कार्ड और पैन कार्ड तक अपनी पहुंच बना सकते हैं। ये अपराधी फर्जी फिंगरप्रिंट तैयार करके भोले-भाले लोगों को अपना शिकार बनाकर बैंक अकाउंट मिनटों में खाली कर सकते हैं। जानकारी के मुताबिक बिहार पुलिस द्वारा पिछले साल Fingerprint Clone बनाने वाले शातिर अपराधियों का भाड़ाफोड़ किया गया था, जिसमें पुलिस को अपराधियों के पास से लगभग 512 लोगों के क्लोन फिंगरप्रिंट बरामद हुए थे।

Clone Fingerprint कैसे बनाते हैं?

आज के दौर में साइबर अपराध (Cyber Crime) के चक्कर में लोग आसानी से फंस जाते है जिसका अपराधियों को इंतजार रहता है। भोले-भाले लोगों को बेवकूफ बनाने के लिए साइबर ठग कई अनोखे तरीके अपना रहे हैं। Clone Fingerprint बनाने के लिए स्कैमर्स को आपके अंगूठे के निशान की जरूरत होती है जो ये आपको बहला-फुसलाकर आसानी से ले लेते हैं। इसके बाद Scammers आपके अंगूठे के निशान की बदौलत फेक थंब इंप्रेशन को प्लास्टिक के अंगूठे पर तैयार कर लेते हैं और मिनटों में आपका खाता साफ कर देते हैं। आपकी जानकारी के लिए बता दें स्कैमर्स अपने झांसे में ऐसे लोगों को ज्यादा लेते हैं जो कम पढ़े-लिखे होते हैं और आधार इनेबल पेमेंट सिस्टम (AePS) का इस्तेमाल करते हैं।

AePS सिस्टम क्या होता है ?

भारत सरकार की ओर से आधार इनेबल पेमेंट सिस्टम (AePS) साल  2014 में लॉन्च किया गया था, जिसका मक़सद उन ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को फायदा पहुंचाना था जिन लोगों के गांव  में या आसपास कोई बैंक या पोस्ट ऑफिस नहीं होते हैं। ऐसे लोग आधार इनेबल पेमेंट सिस्टम (AePS) सर्विस का फायदा उठाकर नजदीकी साइबर कैफे या जन सुविधा केंद्र जाकर पैसे ले सकते हैं।

Scammers देते हैं लालच

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि AePS से पैसे निकालने के लिए केवल आधार कार्ड नंबर और बायोमैट्रिक ऑथेंटिकेशन के इस्तेमाल की जरूरत पड़ती है। इसके अलावा इसमें आपके अंगूठे के निशान और आंखों को स्कैन (Iris Scan) करना शामिल है। Cyber Criminal बिना पढ़े-लिखे लोगों को राशन कार्ड बनाने का लालच देकर अपने झांसे में ले लेते हैं और मासूम ग्रामीणों के भरोसे का फायदा उठाकर Clone Fingerprint बनाकर उनका बैंक अकाउंट खाली कर देते हैं।

दुनिया का ऐसा अनोखा मंदिर जहां होता है ‘तलाक’, वजह जानकर रह जाएंगे दंग

ग्रेटर नोएडा– नोएडा की खबरों से अपडेट रहने के लिए चेतना मंच से जुड़े रहें।

देश-दुनिया की लेटेस्ट खबरों से अपडेट रहने के लिए हमें  फेसबुक  पर लाइक करें या  ट्विटर  पर फॉलो करें।

Related Post