Thursday, 18 April 2024

सपा नेता उज्ज्वल रमण कांग्रेस पार्टी में शामिल, प्रयागराज लोकसभा सीट से लड़ेंगे चुनाव

Uttarpradesh News :  लोकसभा चुनाव नजदीक है। पूरे देश की नजर उत्तर प्रदेश पर है। 543 लोकसभा सीटों में से…

सपा नेता उज्ज्वल रमण कांग्रेस पार्टी में शामिल, प्रयागराज लोकसभा सीट से लड़ेंगे चुनाव

Uttarpradesh News :  लोकसभा चुनाव नजदीक है। पूरे देश की नजर उत्तर प्रदेश पर है। 543 लोकसभा सीटों में से सबसे ज्यादा 80 यूपी में ही हैं। ऐसा कहा जाता है कि दिल्ली का रास्ता उत्तर प्रदेश से होकर गुजरता है। दरअसल सबसे ज्यादा लोकसभा सीटों पर जिस पार्टी का कब्जा होता है, उसके लिए देश की सत्ता हासिल करना आसान हो जाता है। बीजेपी, सपा, बसपा और कांग्रेस ने तैयारी पूरी कर ली है। वहीं पूर्व सांसद रेवती रमण सिंह के बेटे और सपा के वरिष्ठ नेता उज्ज्वल रमण सिंह मंगलवार को कांग्रेस में शामिल हो गए है। कांग्रेस ने उन्हें प्रयागराज से लोकसभा चुनाव लड़ाने का फ़ैसला किया है।

सपा ने दो बार विधायक रह चुके हैं उज्ज्वल रमन

सपा के करछना से 2 बार विधायक रह चुके उज्ज्वल रमण सिंह I.N.D.I अलायंस के उम्मीदवार होंगे। प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में राष्ट्रीय महासचिव व प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे एवं प्रदेश अध्यक्ष अजय राय की मौजूदगी में कांग्रेस की सदस्यता ली। विपक्षी I.N.D.I अलायंस से उन्हें इलाहाबाद लोकसभा सीट का टिकट भी मिलना तय है। उज्ज्वल रमण सिंह के कांग्रेस में शामिल होने और उम्मीदवार बनाए जाने पर सपा अखिलेश यादव की भी सहमति है। प्रदेश अध्यक्ष अजय राय का कहना है, उज्जवल रमण की सोनिया गांधी से मुलाकात हो गई है।

Uttarpradesh News

अखिलेश की सहमति पर कांग्रेस में हुए शामिल

बता दें कि लोकसभा चुनाव में सपा व कांग्रेस के बीच जो समझौता हुआ है उसके तहत कांग्रेस को मिली 17 सीटों में इलाहाबाद सीट भी है। सपा मुखिया अखिलेश यादव की सहमति पर ही उज्जवल रमण सिंह कांग्रेस में शामिल हुए हैं।पिछले दिनों कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे व प्रदेश अध्यक्ष अजय राय ने भी उज्जवल रमण के पिता व आठ बार के विधायक रेवती रमण सिंह से मुलाकात की थी। उस समय से ही उज्ज्वल रमण के कांग्रेस के टिकट पर इलाहाबाद लोकसभा सीट से चुनाव लड़ने की चर्चा थी। रेवती रमण इलाहाबाद लोकसभा सीट से दो बार सांसद भी रह चुके हैं।Uttarpradesh News

राज बब्बर के नाम पर काँग्रेस में विचार,इस बार आगरा नहीं,मिल सकती है दूसरी सीट

Related Post