Tuesday, 25 June 2024

राहुल और ज्योतिरादित्य के साथ पढ़ाई, 2004 में जीता पहला चुनाव: जानिए कौन हैं जितिन प्रसाद

Uttarpradesh News : लोकसभा चुनाव 2024 में NDA की बड़ी जीत के बाद, नरेंद्र मोदी ने रविवार, 9 जून को…

राहुल और ज्योतिरादित्य के साथ पढ़ाई, 2004 में जीता पहला चुनाव: जानिए कौन हैं जितिन प्रसाद

Uttarpradesh News : लोकसभा चुनाव 2024 में NDA की बड़ी जीत के बाद, नरेंद्र मोदी ने रविवार, 9 जून को लगातार तीसरी बार प्रधानमंत्री पद की शपथ ली। इस अवसर पर जितिन प्रसाद को भी केंद्र सरकार में मंत्री बनाया गया है। जितिन ने उत्तर प्रदेश के पीलीभीत से चुनाव लड़ते हुए सपा के भागवत सरन गंगवार को पराजित कर बड़ी जीत दर्ज की। इससे पहले, वे योगी सरकार में लोक निर्माण विभाग के मंत्री थे। अब उन्हें केंद्र की राजनीति में महत्वपूर्ण भूमिका निभानी है। जितिन प्रसाद ने देहरादून के बोर्डिंग स्कूल में राहुल गांधी और ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ पढ़ाई की थी और कांग्रेस नेता राहुल गांधी के बेहद करीबी माने जाते थे।

जितिन के पिता थे राजीव गांधी के सलाहकार

29 नवंबर 1973 को उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर जिले में जितिन प्रसाद का जन्म हुआ था। उनके पिता, जितेंद्र प्रसाद उर्फ बाबा साहब, कांग्रेस के बड़े नेता थे और प्रधानमंत्री राजीव गांधी के सलाहकार भी रहे थे। उनकी मां का नाम कांता प्रसाद है। जितेंद्र प्रसाद ने कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए सोनिया गांधी के खिलाफ चुनाव लड़ा था, हालांकि वे हार गए थे। जनवरी 2001 में उनका निधन हो गया।

राहुल और ज्योतिरादित्य के साथ की पढ़ाई

Uttarpradesh News

जितिन प्रसाद ने देहरादून के बोर्डिंग स्कूल में राहुल गांधी और ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ शिक्षा प्राप्त की। इसके बाद, उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय के श्रीराम कॉलेज ऑफ कॉमर्स से डिग्री हासिल की और फिर एमबीए किया। 2001 में जितिन ने भारतीय युवा कांग्रेस के महासचिव के रूप में अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत की। 2004 में, उन्होंने अपना पहला चुनाव जीता और 14वीं लोकसभा में शाहजहांपुर से सांसद बने। इस जीत के बाद उन्हें इस्पात मंत्री का पदभार सौंपा गया। 2009 में, उन्होंने लखीमपुर खीरी के धौरहरा संसदीय क्षेत्र से चुनाव लड़ा और फिर से जीत हासिल की।

2021 में भाजपा का दामन थामा

2014 के चुनाव में मोदी लहर के कारण उत्तर प्रदेश में जितिन प्रसाद को हार का सामना करना पड़ा। कांग्रेस की नीतियों से निराश होकर, 9 जून 2021 को उन्होंने भारतीय जनता पार्टी में शामिल होने का निर्णय लिया। केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने उन्हें भाजपा की सदस्यता दिलाई। इसके बाद, जितिन को उत्तर प्रदेश विधान परिषद का सदस्य बनाया गया और उन्हें लोक निर्माण विभाग का मंत्री नियुक्त किया गया।

केंद्र में नई भूमिका

Uttarpradesh News

जितिन प्रसाद का राजनीतिक सफर उनकी नेतृत्व क्षमता और समर्पण का प्रमाण है। केंद्र में मंत्री पद की जिम्मेदारी मिलने के साथ ही, वे एक नई और महत्वपूर्ण भूमिका में नजर आएंगे। उनके अनुभव और नीतिगत समझ से केंद्र सरकार को मजबूत करने में मदद मिलेगी और उनके नेतृत्व में देश को नई दिशा मिलेगी।

केंद्र की सत्ता में खत्म हुआ RLD का वनवास, जयंत चौधरी पूरी करेंगे पश्चिमी उत्तर प्रदेश की आकांक्षा !

ग्रेटर नोएडा – नोएडा की खबरों से अपडेट रहने के लिए चेतना मंच से जुड़े रहें।

देशदुनिया की लेटेस्ट खबरों से अपडेट रहने के लिए हमें  फेसबुक  पर लाइक करें या  ट्विटर  पर फॉलो करें

Related Post