Tuesday, 25 June 2024

भारत में ऑप्शन ट्रेडिंग से अमेरिकी ट्रेडिंग कंपनी ने कमा लिए एक अरब डॉलर

Jane Street Options Trading : यूं तो ऑप्शन ट्रेडिंग को लेकर लोगों के मन में हमेशा ही एक डर सा…

भारत में ऑप्शन ट्रेडिंग से अमेरिकी ट्रेडिंग कंपनी ने कमा लिए एक अरब डॉलर

Jane Street Options Trading : यूं तो ऑप्शन ट्रेडिंग को लेकर लोगों के मन में हमेशा ही एक डर सा बना रहता है । लोग इसे काफी रिस्की भी मानते हैं।  लेकिन आपको यह जानकर हैरानी होगी कि एक अमेरिकी ट्रेडिग कंपनी Jane Street Group  ने  भारत में ऑप्शन ट्रेडिंग करके भारत समेत पूरी दुनिया के मार्केट एक्सपर्ट्स को चौंका दिया है। Jane Street Group ने इंडियन ऑप्शन पर सफल ट्रेडिंग करके एक अरब डॉलर से भी ज्यादा कमा लिए हैं । खास बात यह है कि स्ट्रीट ने कोई आम रणनीति इस्तेमाल नहीं की बल्कि एक ऐसा तरीका अपनाया जिसने भारतीय बाजार के जानकारों को भी चौंका दिया है।  चलिए आपको बताते हैं पूरा मामला।

भारतीय शेयर बाज़ार में ऑप्शन पर सफल ट्रेडिंग करके कमाए अरब डॉलर से भी ज्यादा

ग्लोबल इन्वेस्टमेंट मैनेजमेंट फॉर्म Jane Street Group और मिलेनियम मैनेजमेंट ग्लोबल इन्वेस्टमेंट( Millennium Management Global Investment) के बीच कोर्ट में एक बहस चल रही है जिसके कारण दुनिया में सबसे तेज गति से बढ़ रहे भारत के डेरिवेटिव मार्केट पर अब सब की निगाहें टिक गई है । भले ही Jane Street Group की खास ट्रेडिंग रणनीति के बारे में अभी ज्यादा जानकारी नहीं मिली है लेकिन कंपनी का दावा है कि इस रणनीति से पिछले 1 साल में उसने करीब एक बिलियन डॉलर कमा लिए हैं । ब्लूमबर्ग की 1 जनवरी की रिपोर्ट के मुताबिक कंपनी ने पिछले साल शुद्ध कारोबार राजस्व में 10 बिलियन डॉलर से भी ज्यादा की कमाई की थी।  यह मामला बताता है कि हाई स्पीड ट्रेंडिग फर्म भारत के बाजार से किस तरह मुनाफा कमा रही है।

भारत दुनिया का सबसे बड़ा ऑप्शन ट्रेडिंग का मार्केट 

पिछले दशक में भारत दुनिया का सबसे बड़ा ऑप्शन ट्रेडिंग का मार्केट बन चुका है।  इसी वजह से Jane Street Group की प्रतिस्पर्धी कंपनी जैसे Optive, सीटाडेल सिक्योरिटीज , आईएमसी ट्रेडिग और जम ट्रेडिंग भी तेजी से भारतीय बाजार में पैर पसारना चाहती हैं।  मुंबई के बाजार जानकार भी Jane Street Group की ट्रेडिंग रणनीति को लेकर अभी अंदाजा ही लग रहे हैं । इस बीच कई लोगों को चिंता है कि कंपनी का इतना मुनाफा छोटे निवेशको की जेब से कटकर तो नहीं आ रहा।  गौरतलब है कि भारत में करीब 35 फ़ीसदी ऑप्शन ट्रेडिंग रिटेल इन्वेस्टर ही करते हैं।  भारत में Jane Street Group को JSI  के नाम से जाना जाता है । इसकी इंडिया यूनिट ने मार्च 2020 के बाद भारत में काम काज शुरू किया है।  2023 मार्च में खत्म हुए वित्त वर्ष में कंपनी का ऑपरेटिंग रिवेन्यू 1 से 100 करोड रुपए तक था और इस दौरान कंपनी का ऑपरेटिंग प्रॉफिट साल दर साल 649 फीसदी चढ़ा है।  माना जा रहा है कि अगर कंपनी का पूरा रिवेन्यू इंडिया से आया है तो JSI इन्वेस्टमेंट इंडिया से ऑपरेट करने वाली सबसे ज्यादा प्रॉफिटेबल एल्गो ट्रेडिंग फॉर्म बन जाएगी।  भारत में डेरिवेटिव वॉल्यूम अंडरलाइन कैश मार्केट का करीब 400 गुना हो गया है।  ज्यादातर दूसरे मार्केट में यह 5 से 15 गुना के बीच है लेकिन JSI के इस मामले में एक पेंच है। ट्रेडिंग फर्म ने अपने दो पूर्व कर्मचारी और दूसरी कंपनी बिलोरियम मैनेजमेंट पर मुकदमा दायर किया है।  उन पर आरोप है कि उन्होंने Jane Street की खास ट्रेडिंग रणनीति चुरा ली है जो भारत के ऑप्शन पर फोकस करती है। Jane Street का कहना है कि यह रणनीति बेहद गोपनीय है ।  इस मामले ने वॉल स्ट्रीट पर हलचल मचा दी है। क्योंकि इससे पता चलता है की ट्रेडिंग फर्म किस तरह की गोपनीय जानकारी का इस्तेमाल करती है।

Jane Street Options Trading

ऑप्शन ट्रेडिंग के लिए भारत बना आकर्षक बाजार

हालांकि ऑप्शन ट्रेडिंग में भले ही जोखिम मौजूद है लेकिन भारत घरेलू और विदेशी दोनों तरह के बाजार निर्माताओं के लिए अभी भी एक आकर्षक बाजार बना हुआ है। इसकी कई वजह है। पहली वजह है 2024 में स्थापित हुई हाई फ्रीक्वेंसी ट्रेडिंग करने वाली भारतीय कंपनी ग्रेविटोंन रिसर्च कैपिटल (Graviton Research Capital) की सफलता। दूसरी वजह है दुबई और सिंगापुर को टक्कर देने के लिए भारत का गिफ्ट सिटी नाम का एक वित्तीय केंद्र बनाने का प्रयास। जानकारों के मुताबिक भारतीय बाजार में मौजूद लिक्विडिटी ही असल में बाजार निर्माता को खींचने वाली ताकत है। सेबी के मुताबिक 90% एक्टिव रिटेल ट्रेडर्स डेरिवेटिव्स के में पैसा गवा देते हैं।

किसी भी निवेश से पहले अपने निवेश सलाहकार की सलाह जरूर लें।

क्या व्हाट्सएप वाकई भारत में बंद कर देगा अपनी सर्विस? आखिर कंपनी ने क्यों दी धमकी

Related Post