Tuesday, 25 June 2024

मोदी सरकार ने रचा एक और बड़ा इतिहास, GST कलेक्शन ने तोड़ा रिकॉर्ड

GST Collection :  GST कलेक्शन को लेकर एक बड़ी खबर सामने आई है। दरअसल नए वित्त वर्ष में देश ने…

मोदी सरकार ने रचा एक और बड़ा इतिहास, GST कलेक्शन ने तोड़ा रिकॉर्ड

GST Collection :  GST कलेक्शन को लेकर एक बड़ी खबर सामने आई है। दरअसल नए वित्त वर्ष में देश ने जीएसटी कलेक्शन के मामले में इतिहास रच दिया है। वहीं बीजेपी सरकार ने अप्रैल 2024 के लिए जीएसटी कलेक्शन के आंकड़े जारी किए हैं। GST शुरू होने के बाद पहली बार कलेक्शन 2 लाख करोड़ रुपये के पार पहुंचा गया है।

जीएसटी कलेक्शन में आई तेजी

आपको बता दें कि सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, GST Collection अप्रैल महीने में अब तक का सबसे ज्यादा 2.10 लाख करोड़ रुपये रहा है। पहली बार 2 लाख करोड़ रुपये का आंकड़ा पार करने वाली GST Collection में बीते अप्रैल महीने ग्रॉस रेवेन्यू में भी सालाना आधार पर शानदार 12.4 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई।

GST Collection

इसके अलावा नेट रेवेन्यू (रिफंड के बाद) 1.92 लाख करोड़ रुपये रहा है और इसमें साल-दर साल 17.1 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है. अप्रैल 2024 के हुए कुल जीएसटी कलेक्शन में सेंट्रल जीएसटी (CGST) 43,846 करोड़ रुपये, स्टेट जीएसटी (SGST) 53,538 करोड़ रुपये, आईजीएसटी 99,623 करोड़ रुपये और सेस 13,260 करोड़ रुपये शामिल है।

GST Collection

सरकारी आंकड़ों की मानें तो, फाइनेंशियल ईयर 2023-24 के लिए कुल ग्रॉस जीएसटी कलेक्शन 20.18 लाख करोड़ रुपये रहा है, जो कि इससे पिछले वित्त वर्ष 2022-23 की तुलना में 0.18 लाख करोड़ रुपये ज्यादा है, तब 20 लाख करोड़ रुपये का जीएसटी कलेक्शन हुआ था।

जीएसटी कलेक्शन में कैसे हुई बढ़ोतरी?

मिली जानकारी के अनुसार जीएसटी (GST) को 01 जुलाई 2017 को लागू किया गया था। इस नई प्रणाली से वैट (VAT), एक्साइज ड्यूटी (कई चीजों पर) और सर्विस टैक्स (Service Tax) जैसे 17 टैक्स खत्म कर दिए है। छोटे उद्योग-धंधों को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने 40 लाख रुपये के सालाना टर्नओवर वाले बिजनेस को जीएसटी के दायरे से मुक्त करवा दिया है। माल एवं सेवा कर (GST) को लागू करते हुए कहा गया था कि इससे न सिर्फ केंद्र सरकार को बल्कि राज्य सरकारों को भी राजस्व के मोर्चे पर फायदा होगा। GST Collection

सावधान! एक गलत Email आपको करा सकती है जेल की सैर

ग्रेटर नोएडा – नोएडा की खबरों से अपडेट रहने के लिए चेतना मंच से जुड़े रहें।

देशदुनिया की लेटेस्ट खबरों से अपडेट रहने के लिए हमें  फेसबुक  पर लाइक करें या  ट्विटर  पर फॉलो करें।

Related Post