Saturday, 25 May 2024

एनसीआरटी किताबों पर रार, कर रहे एक दूसरे पर वार

NCERT News एनसीईआरटी की किताबों में अब इंडिया की जगह भारत का जिक्र होने का दावा किया जा रहा है।…

एनसीआरटी किताबों पर रार, कर रहे एक दूसरे पर वार

NCERT News एनसीईआरटी की किताबों में अब इंडिया की जगह भारत का जिक्र होने का दावा किया जा रहा है। कहा जा रहा है कि एनसीईआरटी की एक कमेटी ने न सिर्फ इंडिया की जगह भारत लिखने की सिफारिश की है, बल्कि भारतीय ज्ञान प्रणाली को शामिल करने की अनुशंसा की है। अब एनसीईआरटी की किताबों में इंडिया की जगह भारत होगा या नहीं इसे लेकर सियासत जरूर होने लगी है। तमाम सियासी दलों की इस फैसले पर प्रतिक्रियाएं सामने आ रही हैं। कांग्रेस पार्टी ने जहां इसे भारतीय जनता पार्टी की ओर से शिक्षा में सियासत करने का आरोप लगाया है। वहीं कई नेताओं ने इसे लेकर केंद्र की बीजेपी सरकार पर निशाना साधा है।

विवादों को जन्म देना बीजेपी की आदत है : कांग्रेस

कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता अखिलेश सिंह कहते हैं कि भारतीय जनता पार्टी सिर्फ सियासत के मकसद से इस तरीके की अफवाहों और कुतर्को के माध्यम से अपनी बात को आगे रखने की सियासत कर रही है। अखिलेश सिंह कहते हैं कि केंद्र सरकार को अगर इंडिया के नाम से इतनी ही आपत्ति है, तो हर जगह इंडिया बदल दिया जाना चाहिए। केंद्र सरकार के इशारे पर चलने वाले सरकारी महकमे भी उन्हीं की भाषा में बात कर रहे हैं। कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता अखिलेश सिंह कहते हैं कि सिर्फ विवादों को जन्म देना ही भारतीय जनता पार्टी की आदत है, उसी को आगे भी करने की तैयारी में है।

अनुछेद एक अर्थ नहीं समझ पा रहा हूं: मनोज झा

NCERT पैनल की सिफारिश पर स्कूली किताबों में ‘भारत’ के साथ ‘इंडिया’ को बदलने पर, आरजेडी सांसद मनोज झा ने कड़ा ऐतराज जताया है। उन्होंने कहा कि जब से इंडिया गठबंधन का जन्म हुआ है, तब से बीजेपी नेताओं की कई प्रतिक्रियाएं आ रही हैं। वे समझ नहीं पा रहे हैं कि कैसे इंडिया गठबंधन पर हमला किया जाए। मुझे लगता है कि यह एक उन्मादी प्रतिक्रिया है। अब एनसीईआरटी ऐसा कर रहा है। आप अनुच्छेद 1 के साथ क्या करेंगे जो कहता है इंडिया जो भारत है। मैं इसका अर्थ समझ नहीं पा रहा हूं। यदि इंडिया गठबंधन अपना नाम बदलकर भारत कर लेता है, तो वे क्या करेंगे।

NCERT News

भारतीय ढांचे को बदलना चाहती है बीजेपी

कर्नाटक के डिप्टी सीएम डीके शिवकुमार ने पीटीआई से कहा, कि केंद्र की बीजेपी सरकार भारतीय ढांचे को बदलना चाहती है। हम रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया, भारतीय प्रशासनिक सेवा क्यों कह रहे हैं? हमारे सभी पासपोर्ट में भारत गणराज्य लिखा है। यह सरकार कुछ गलत करना चाहती है। कौन कह रहा है कि हम भारतीय नहीं हैं, हमें गर्व है कि हम इंडियंस हैं।

इंडिया गठबंधन से डरे हैं पीएम: AAP

एनसीईआरटी की इस सिफारिश पर आम आदमी पार्टी की नेता प्रियंका कक्कड़ ने भी पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि यह दर्शाता है कि पीएम मोदी को इंडिया गठबंधन से कितना डर है। नाम बदलने के बजाय बेरोजगारी, महंगाई और भ्रष्टाचार के मुद्दों पर ध्यान केंद्रित करने का प्रयास किया जाना चाहिए।

डीएमके ने भी बीजेपी पर निशाना साधा

एनसीईआरटी पैनल की सिफारिश पर डीएमके प्रवक्ता सरवनन अन्नादुरई ने कहा,  बीजेपी अपनी नाकामी को छुपाने के लिए और लोगों का ध्यान भटकाने के लिए नाम बदलने की राजनीति कर रही है।

एनसीईआरटी समिति ने की सिफारिश

एनसीईआरटी समिति ने सर्वसम्मति से सभी कक्षाओं के सिलेबस के लिए INDIA  की जगह भारत नाम इस्तेमाल करने की सिफारिश की। एनसीईआरटी राष्ट्रीय शिक्षा नीति (एनईपी) 2020 के अनुरूप स्कूल के किताबों को संशोधित कर रहा है। एनसीईआरटी ने हाल ही में इसके लिए 19 सदस्यीय नेशनल सिलेबस एंड टीचिंग लर्निंग मटेरियल कमेटी (NSTC) का गठन किया था।

जमीन विवाद को लेकर युवक को ट्रैक्‍टर से रौंद कर मार डाला

ग्रेटर नोएडा– नोएडा की खबरों से अपडेट रहने के लिए चेतना मंच से जुड़े रहें।

देश-दुनिया की लेटेस्ट खबरों से अपडेट रहने के लिए हमें  फेसबुक  पर लाइक करें या  ट्विटर  पर फॉलो करें।

Related Post