Thursday, 18 April 2024

जेवर एयरपोर्ट के पास 600 पेड़ों पर चलेगा कुल्हाड़ा, कटेंगे पेड़

Greater Noida News : ग्रेटर नोएडा के पास स्थापित हो रहे जेवर एयरपोर्ट के पास जल्दी ही कुल्हाड़ा चलेगा। जेवर एयरपोर्ट…

जेवर एयरपोर्ट के पास 600 पेड़ों पर चलेगा कुल्हाड़ा, कटेंगे पेड़

Greater Noida News : ग्रेटर नोएडा के पास स्थापित हो रहे जेवर एयरपोर्ट के पास जल्दी ही कुल्हाड़ा चलेगा। जेवर एयरपोर्ट से हवाई यात्रा को सुरक्षित बनाने के मकसद से जेवर एयरपोर्ट परिसर के आसपास के 600 बड़े-बड़े पेड़ काटने पड़ेंगे। जेवर एयरपोर्ट के निर्माण का काम तेजी से चल रहा है। इस बीच जेवर एयरपोर्ट के आसपास के 600 पेड काटने का फैसला किया गया है। जेवर एयरपोर्ट से इसी साल 29 सितंबर 2024 से हवाई यात्रा शुरू हो जाएगी।

Greater Noida News

कटेंगे भी और लगेंगे भी पेड़

जेवर एयरपोर्ट की स्थापना के काम की पूरी निगरानी यमुना औद्योगिक विकास प्राधिकरण (यीडा) कर रहा है। यीडा के सीईओ डा. अरूणवीर सिंह ने बताया कि जेवर एयरपोर्ट के परिसर के आसपास लम्बी ऊंचाई के 600 से अधिक पेड़ हैं। जेवर एयरपोर्ट से हवाई उड़ान को आसान बनाने के लिए 600 पेड़ काटने पड़ेंगे। उन्होंने बताया कि जेवर एयरपोर्ट के आसपास के 600 पेड़ काटने के कारण हुए नुकसान की भरपाई के लिए यीडा के क्षेत्र में 600 नए पौधे लगाए जांएगे। इसके साथ ही यीडा के क्षेत्र में हरियाली बनाए रखने के लिए बड़ी संख्या में चल रहा पौधारोपण कार्यक्रम पहले की तरह से ही चलता रहेगा।

29 सितंबर से शुरू हो जाएगी उड़ान

जैसा कि हम पहले भी आपको बता चुके हैं कि जेवर एयरपोर्ट से इसी साल यानि 2024 में 20 मार्च से उड़ान शुरू हो जाएगी। जेवर एयरपोर्ट भारत का तो सबसे बड़ा एयरपोर्ट होगा ही। साथ ही जेवर एयरपोर्ट एशिया का भी सबसे बड़ा एयरपोर्ट होगा। इतना ही नहीं जेवर एयरपोर्ट दुनिया का चौथा सबसे बड़ा एयरपोर्ट होगा।बात पूरे विश्व की करें तो अमरीका के दो एयरपोर्ट तथा सउदी अरब के एयरपोर्ट के बाद जेवर एयरपोर्ट विश्व का चौथा सबसे बड़ा एयरपोर्ट बनेगा। जेवर एयरपोर्ट यीडा के क्षेत्र में जेवर तथा उसके आसपास के गांवों की जमीन पर स्थापित हो रहा है। जेवर एयरपोर्ट कुल पांच हजार हेक्टेयर जमीन पर बन रहा है।

भारत के अब तक के बड़े से बड़े एयरपोर्ट की बात करें तो देश की राजधानी में स्थापित इन्दिरा गांधी एयरपोर्ट (आईजीआई) 2066 हेक्टेयर जमीन पर बना हुआ है। नवी मुंबई में बन रहा एक और बड़ा एयरपोर्ट 2320 हेक्टेयर जमीन पर स्थापित हो रहा है। जेवर एयरपोर्ट पर अन्तर्राष्ट्रीय कारगो तथा जहाजों को रिपेयर करने वाला रिपेयर सेंटर भी स्थापित हो रहा है। जेवर एयरपोर्ट को सडक़ मार्ग के द्वारा देश की राजधानी से लेकर पूरे पश्चिमी उत्तर प्रदेश तथा लखनऊ से सीधा जोड़ा जा रहा है। इस एयरपोर्ट का रेल मार्ग के द्वारा पूरे देश से जोडऩे की योजना पर भी काम चल रहा है। कुल मिलाकर कहा जा सकता है कि जेवर एयरपोर्ट दुनिया का अनोखा एयरपोर्ट बनेगा।

6 करोड़ यात्री उड़ेंगे जेवर एयरपोर्ट से

यमुना औद्योगिक विकास प्राधिकरण के CEO डॉ. अरुणवीर सिंह ने बताया कि जेवर एयरपोर्ट से वर्ष 2050 तक बीस करोड़ यात्री प्रतिवर्ष उड़ान भरा करेंगे। प्रतिवर्ष उड़ान भरने के मामले में जेवर एयरपोर्ट देश के सभी हवाई अड्डे को पीछे छोड़ देगा। अब तक के प्राप्त आंकड़ों के मुताबिक देश में अब तक के सबसे बड़े एयरपोर्ट आईजीआई से प्रतिवर्ष 6 करोड़ यात्री उड़ान भरते हैं। वर्ष 2024 तक आईजीआई से 10 करोड़ यात्री उड़ान भर सकेंगे। उसके बाद इस एयरपोर्ट की क्षमता नहीं बढ़ सकेगी। जेवर एयरपोर्ट से 2050 तक बीस करोड़ यात्री उड़ान भरेंगे। इस प्रकार हर मामले में जेवर एयरपोर्ट अव्वल साबित होगा। Greater Noida News

8वीं मंजिल से कूदकर मेड ने की खुदकुशी, हत्या या आत्महत्या?

ग्रेटर नोएडा – नोएडा की खबरों से अपडेट रहने के लिए चेतना मंच से जुड़े रहें।

देशदुनिया की लेटेस्ट खबरों से अपडेट रहने के लिए हमें  फेसबुक  पर लाइक करें या  ट्विटर  पर फॉलो करें।

Related Post