Thursday, 18 April 2024

Health News- कोरोना के साथ सेप्सिस (Sepsis) का बढ़ा खतरा

Health News- कोरोना का कहर अभी खत्म नहीं हुआ है। वैज्ञानिकों द्वारा तीसरी लहर के संकेत दिए जा चुके हैं।…

Health News- कोरोना के साथ सेप्सिस (Sepsis) का बढ़ा खतरा

Health News- कोरोना का कहर अभी खत्म नहीं हुआ है। वैज्ञानिकों द्वारा तीसरी लहर के संकेत दिए जा चुके हैं। जिससे निपटने की तैयारी में पूरा विश्व लगा हुआ है। 2 साल से पूरे विश्व में पहरा डाले कोरोना ने लोगों के इम्यून सिस्टम को बुरी तरह से प्रभावित किया है।

ऐसे लोग जो कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं, ठीक हो जाने के बाद भी उनके ऊपर से खतरा कम नहीं हुआ है। Covid 19 के Post complication और भी अधिक खतरनाक है। जो लोग एक बार करो ना संक्रमण का शिकार हो चुके हैं, उनमें सेप्सिस होने का खतरा बढ़ रहा है। यह कैंसर और हार्ट अटैक से भी ज्यादा खतरनाक साबित होने वाला है। जिसके बारे में WHO ने पहले ही चेतावनी दे दी है।

स्वास्थ्य विशेषज्ञों की माने तो आने वाले समय में सेप्सिस से लोगों की जान को खतरा कैंसर और हार्ट अटैक से भी ज्यादा रहेगा। WHO का मानना है कि Sepsis एक सिंड्रोमिक रिएक्शन है, जो संक्रमण की वजह से फैलता है। इंस्टीट्यूट ऑफ क्रिटिकल केयर एंड एनेस्थिसियोलॉजी, मेदांता – द मेडिसिटी के चेयरमैन, यतिन मेहता का कहना है कि 2050 तक हार्ट अटैक और कैंसर की अपेक्षा सेप्सिस से अधिक मौते होंगी।

भारत में इसका खतरा और भी अधिक है इसके पीछे की वजह यह है यहां एंटीबायोटिक दवाइयों का अधिक इस्तेमाल किया जाता है। एंटीबायोटिक दवाइयों का अधिक इस्तेमाल सेप्सिस को बढ़ावा देना है, इसके साथ ही जागरूकता की कमी भी बड़ी वजह है। स्वास्थ्य वैज्ञानिकों का सुझाव है कि एंटीबायोटिक दवाओं के ज्यादा इस्तेमाल से बचना चाहिए। साथ ही सभी को जागरूक होने की आवश्यकता है किसी तरह की बीमारी होने पर लापरवाही करने के बजाय तुरंत डॉक्टर से परामर्श लेनी चाहिए। डॉक्टर के परामर्श के बगैर दवाइयों का इस्तेमाल करने से बचना चाहिए।

Related Post