Thursday, 18 April 2024

बिना डॉक्टरी सलाह के न करे इस आई ड्रॉप का इस्तेमाल, गवां सकते हैं आंखें

जब भी हमें आंखों में किसी भी तरह की तकलीफ होती है, जैसे आंखों का लाल होना, सूजा या फिर…

बिना डॉक्टरी सलाह के न करे इस आई ड्रॉप का इस्तेमाल, गवां सकते हैं आंखें

जब भी हमें आंखों में किसी भी तरह की तकलीफ होती है, जैसे आंखों का लाल होना, सूजा या फिर कोई संक्रमण तो हम अक्सर बाजार में मिलने वाला स्टेरॉयड वाले आई ड्रोप खरीद कर उसे इस्तेमाल कर लेते हैं। इन आई ड्रॉप से हमें उसी वक्त लाभ तो मिल जाता हैं, लेकिन इनसे होने वाले आंखो के नुकसान की जानकारी शायद ही किसी को हो।

Steroid Drops

हर महीने इतने लोगों को होती ही आंखो की परेशानी

डॉक्टरों के मुताबिक बाजार मे मिलने वाले स्टेरॉयड वाले ड्रॉप बेशक उसी समय आराम देते हैं, लेकिन लंबे समय तक इनके इस्तेमाल से आंखो की रोशनी को खतरा हो सकता है। इनका लंबे समय तक प्रयोग करने से कॉर्निया पर धब्बे आने लगते हैं और साथ ही आंखों पर दबाव बढने का खतरा रहता है। जिससे आंखों की रोशनी जा सकती है। बिना डॉक्टरों की सलाह के इन आई ड्रॉप का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। डॉक्टरों का कहना है कि हर महीने करीब 100 लोग आंखो मे दिक्कत ले कर पहुच रहें हैं।

आसानी से मिलने वाले आईड्रॉप कर रहे आंखो को खराब

हाल ही में आई एक रिपोर्ट के मुताबिक आंखों मे लालिमा, खुजली, पानी आने की दिक्कत होने पर मरीज डॉक्टर के पास ना जा कर मेडिकल स्टोर पर आसानी से मिलने वाले स्टेरॉयड युक्त आईड्रॉप का इस्तेमाल कर लिया। जिससे उन्हें उस वक्त तो आराम मिल गया। लेकिन कुछ समय बाद उनकी समस्या बढ़ने पर फिर आईड्रॉप का इस्तेमाल आंखो के लिए घातक साबित हो रही है। कंजक्टिवाइटिस होने पर अगर मरीज बिना डाक्टरी परामर्श के स्टेरॉयड युक्त आईड्रॉप का इस्तेमाल करता है तो वह अंधा भी हो सकता है।

Steroid Drops

स्टेरॉयड का इस्तेमाल बच्चों के लिए खतरा

इस बारे में जानकारी देते हुए विशेषज्ञों के बताया कि स्टेरॉयड वाले आईड्रॉप से कार्निया डैमज हो रही हैं। इसके अधिक इस्तेमाल से कार्निया में गहरे छिद्र हो रहें हैं। 20 फीसद बच्चों में दृष्टिहीनता और ग्लूकोमा का कारण स्टेरॉयड आई ड्रॉप है। बच्चों की आंखों में परेशानी होने पर कई बार लोग डॉक्टर को न दिखाकर नजदीक की दवा दुकान से आई ड्रॉप खरीद लेते हैं। नेत्र विभाग से मिली जानकारी के अनुसार कुछ बुजुर्ग आंखो मे कीचड़ और लालिमा होने पर आईड्रॉप का इस्तेमाल किया। जिसकी वजह से उनकी परेशानी बढ़ गई। इस तरह के आईड्रॉप के इस्तेमाल ने कार्निया के अलावा ग्लूकोमा और मोतियाबिंद की स्थिति मे ला कर खड़ा कर दिया।

खुद से ना करे इसका इस्तेमाल

बाजार मे मिलने वाले आईड्रॉप का इस्तेमाल बिना डॉक्टरी सलाह के ना करें। इसका ज्यादा इस्तेमाल आंखो की रोशनी भी खत्म कर सकता हैं। आंखो में दिक्कत होने पर खुद से कोई भी आईड्रॉप का इस्तेमाल ना करे।

मैथ्स बच्चों को क्यों डराती है,आइए जानें इसके पीछे का कारण और इसका डर दूर करने के उपाय

ग्रेटर नोएडा – नोएडा की खबरों से अपडेट रहने के लिए चेतना मंच से जुड़े रहें।

देशदुनिया की लेटेस्ट खबरों से अपडेट रहने के लिए हमें  फेसबुक  पर लाइक करें या  ट्विटर  पर फॉलो करें।

Related Post