Saturday, 15 June 2024

भारत की बड़ी कामयाबी: डीआरडीओ ने रचा इतिहास, ये कारनामा करने वाला भारत पहला देश बना

भारत की बड़ी कामयाबी: भारतीय वायु सेना ने आज अपने गौरवशाली इतिहास में एक और बड़ी कामयाबी हासिल कर ली…

भारत की बड़ी कामयाबी: डीआरडीओ ने रचा इतिहास, ये कारनामा करने वाला भारत पहला देश बना

भारत की बड़ी कामयाबी: भारतीय वायु सेना ने आज अपने गौरवशाली इतिहास में एक और बड़ी कामयाबी हासिल कर ली है। वायु सेना की ओर से अपनी आकाश वायु रक्षा मिसाइल प्रणाली का आज सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया। आकाश मिसाइल ने इतिहास रचते हुए एक साथ चार टारगेट को ढेर कर दिया।

रक्षा अधिकारियों ने बताया कि भारत ये कारनामा करने वाला पहला देश बन गया है। भारत के अलावा किसी और देश ने अब तक ऐसी क्षमता हासिल की है। आज ऐसा पहली बार हुआ कि सिंगल फायरिंग यूनिट के जरिए किसी रेंज में कमांड गाइडेंस के जरिए 4 लक्ष्यों को एक साथ ढेर कर दिया।

भारत की बड़ी कामयाबी: आकाश मिसाइल से हवा में ढेर किए एक साथ 4 टारगेट

भारत के गौरव डीआरडीओ ने रविवार को आकाश मिसाइल की सफलता के बारे में जानकारी दी। आकाश मिसाइल सिस्टम के प्रदर्शन में डीआरडीओ ने दिखाया कि आकाश मिसाइल एक साथ चार अलग-अलग निशानों को तबाह करने की ताकत रखता है। 25 किलोमीटर तक मार करने की क्षमता वाले आकाश मिसाइल के सफल प्रक्षेपण पर डीआरडीओ ने आज बताया कि “हवा में सटीक निशाना साधने की ताकत से लैस आकाश मिसाइल सिस्टम भारत के सुरक्षा असलहों में अत्याधुनिक हथियार के रूप में गिना जाएगा।” इस कारनामे के जरिए भारत को रक्षा के मोर्चे पर एक बड़ी सफलता मिली है।

डीआरडीओ ने बताया इसे भारत की बड़ी कामयाबी

डीआरडीओ के मुताबिक भारत दुनिया का ऐसा पहला देश है, जिसके पास आकाश मिसाइल जैसी शानदार तकनीक और ताकत है। रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन के मुताबिक सिंगल फायरिंग यूनिट का इस्तेमाल कर मिसाइल लॉन्च करना और एक साथ चार ठिकानों पर सटीक निशाना लगाने की क्षमता रखने वाले देशों में भारत सबसे आगे है। दुनिया के किसी और देश के पास फिलहाल ऐसी क्षमता नहीं है।

संगठन के अधिकारियों ने बताया कि “खतरे को बेअसर करने के लिए आकाश फायरिंग यूनिट को टारगेट सौंपे गए थे और सिस्टम की क्षमता के अनुसार जब सिस्टम ने सक्रिय होने के लिए संकेत दिया तो कमांडर ने फायरिंग कमांड जारी किए थे। दो आकाश मिसाइलों को दो लॉन्चरों से लॉन्च किया गया था और एक ही लॉन्चर को अगले दो लक्ष्यों के लिए सौंपा गया था। कुल चार मिसाइलों को थोड़े समय के भीतर लॉन्च किया गया और सभी चार लक्ष्यों को अधिकतम सीमा (लगभग 30 किमी) पर एक साथ सफलतापूर्वक निशाना बनाया गया था।”

भारत की बड़ी कामयाबी

क्रिकेट के अनूठे नियम: जिनसे दर्शक क्या खिलाड़ी भी हो जाते हैं कंफ्यूज

ग्रेटर नोएडा– नोएडा की खबरों से अपडेट रहने के लिए चेतना मंच से जुड़े रहें।

देश-दुनिया की लेटेस्ट खबरों से अपडेट रहने के लिए हमें  फेसबुक  पर लाइक करें या  ट्विटर  पर फॉलो करें।

 

 

Related Post