Saturday, 15 June 2024

उत्तर प्रदेश के शिक्षा विभाग का बड़ा फैसला, उज्जवल होगा भविष्य

UP News : उत्तर प्रदेश के शिक्षा विभाग ने एक बड़ा फैसला किया है। यह फैसला उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री…

उत्तर प्रदेश के शिक्षा विभाग का बड़ा फैसला, उज्जवल होगा भविष्य

UP News : उत्तर प्रदेश के शिक्षा विभाग ने एक बड़ा फैसला किया है। यह फैसला उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर किया गया है। उत्तर प्रदेश के शिक्षा विभाग का दावा है कि इस फैसले से उत्तर प्रदेश के बच्चों का भविष्य उज्जवल बनाने में बहुत बड़ी मदद मिलेगी। उत्तर प्रदेश के शिक्षा विभाग का यह फैसला प्रदेश के कक्षा-1 से कक्षा-8 तक के स्कूलों पर लागू होगा।

क्या है उत्तर प्रदेश के शिक्षा विभाग का फैसला

UP News

उत्तर प्रदेश के शिक्षा विभाग ने प्रदेश के कक्षा-1 से कक्षा-8 तक के स्कूलों के लिए खास पहल शुरू की है। इस पहल के तहत बच्चों के सर्वांगीण विकास के लिए स्काउट गाईड को अनिवार्य किया जा रहा है। इस फैसले के तहत उत्तर प्रदेश के सभी सरकारी स्कूलों में स्काउट गाईड की यूनिट स्थापित की जाएगी। उत्तर प्रदेश के शिक्षा विभाग के अधिकारियों का कहना है कि परिषदीय विद्यालयों में छात्रों की शारीरिक एवं मानसिक योग्यताओं का पूर्ण विकास करने के लिए योगी सरकार कक्षा एक से कक्षा 8 तक के प्राथमिक विद्यालयों में स्काउट एवं गाइडिंग को प्रभावी ढंग से संचालित करने जा रही है। इसी क्रम में पूरे प्रदेश के परिषदीय विद्यालयों में स्काउट एंड गाइड की यूनिटें स्थापित की जाएंगी। नए सत्र से पहले इन यूनिटों की स्थापना करने के निर्देश दिए गए हैं। स्काउट गाइड कार्यक्रमों द्वारा बच्चों में उच्च कोटि की नैतिकता, अनुशासन, राष्ट्रीय एकता की भावना तथा चरित्र निर्माण आदि गुणो का विकास होता है। उत्तर प्रदेश के कक्षा छह से आठ के विद्यालयों में स्काउट गाइड की यूनिटें स्थापित हैं। अब कक्षा एक से पांच के विद्यालयों में भी इस यूनिट की स्थापना की जाएगी। शिक्षा निदेशक (बेसिक) प्रताप सिंह बघेल द्वारा सभी मंडलीय सहायक शिक्षा निदेशक (बेसिक) एवं जिला बेसिक शिक्षा अधिकारियों को इस संबंध में निर्देशित किया गया है। उन्होंने कहा है कि कक्षा एक से पांच तक के हर परिषदीय विद्यालयों में कम से कम एक यूनिट का पंजीकरण अवश्य होगा। प्रत्येक दल में 24-24 सदस्य होंगे। इसी प्रकार कक्षा 6 से कक्षा 8 तक संचालित प्रत्येक परिषदीय विद्यालय में भी कम से कम एक यूनिट स्थापित की जाए, जिसमें 32-32 सदस्य होंगे। विद्यालयों में छात्र-छात्राओं की संख्या के आधार पर दलों की संख्या उसी अनुपात में बढ़ाई जा सकती है। इसके अतिरिक्त पूर्व से पंजीकृत यूनिट का नवीनीकरण भी अवश्य कराया जाए। ये भी निर्देश दिया गया है कि नए दलों का पंजीकरण व पुराने का नवीनीकरण नए सत्र से पहले कराया जाए।

अध्यापकों की होगी ट्रेनिंग

UP News

उन्होंने कहा है कि ऐसे परिषदीय विद्यालय जहां यूनिट लीडर के रूप में शिक्षक प्रशिक्षित नहीं हैं, उनका भारत स्काउट और गाइड उत्तर प्रदेश संस्था के माध्यम से प्रशिक्षण कराया जाए। 7 दिवसीय यह प्रशिक्षण आवासीय होगा। शुरुआत में इसके लिए हर जिले से 50-50 शिक्षकों को नामित किया जाए। इसके साथ ही डीबीटी की राशि से छात्र-छात्राओं के लिए एक सेट स्कूली ड्रेस और एक सेट स्काउट गाइड ड्रेस अभिभावकों से तैयार करवाने के भी निर्देश दिए गए हैं। इसके अतिरिक्त स्काउट गाइड का कम से कम एक बैंड प्रत्येक जनपद ब्लॉक स्तर पर तैयार किया जाए तथा इस बैंड की प्रतियोगिता भी जनपदीय तथा अंतर्जनपदीय स्तर पर आयोजित की जाए। यही नहीं भारत स्काउट गाइड संस्था द्वारा जिले एवं प्रदेश स्तर पर आयोजित की जाने वाली बीएसजी ज्ञान प्रतियोगिता (2024-25) एवं जनपद/प्रादेशिक स्तर पर सर्वोत्तम कैडेट प्रतियोगिता में अधिक से अधिक छात्र-छात्राओं को प्रतिभाग कराया जाए। साथ ही कक्षा छह से आठ तक स्काउट गाइड का निर्धारित पाठ्यक्रम समय सारिणी के अनुसार चलाया जाए।

उत्तर प्रदेश में उठी बड़ी मांग, कश्मीर में भेजा जाए बाबा का बुलडोजर

Related Post