Friday, 21 June 2024

Death After Funeral: पहले दिया अपना मृत्युभोज, तेरहवीं के 2 दिन बाद हुई सच में मौत

Death After Funeral: वक्त का कोई भरोसा नहीं होता, कब किसके लिए अंतिम घड़ी साबित हो जाए। एक व्यक्ति के…

Death After Funeral: पहले दिया अपना मृत्युभोज, तेरहवीं के 2 दिन बाद हुई सच में मौत

Death After Funeral: वक्त का कोई भरोसा नहीं होता, कब किसके लिए अंतिम घड़ी साबित हो जाए। एक व्यक्ति के अजीब कारनामे के बारे में हमने अभी 16 जनवरी को आपको बताया था, कि कैसे उसने अपने जीते जी ही अपनी तेरहवीं की रस्म करते हुए अपना मृत्युभोज स्वयं किया था, हैरानी की बात है, कि वो अब वास्तव में इस दुनिया में नहीं रहा। हाकिम सिंह नाम के इस व्यक्ति की तेरहवीं का संस्कार करने के 2 दिन बाद ही मृत्यु हो गई है। पोस्टमार्टम के बाद उसका अंतिम संस्कार कर दिया गया।

नहीं रहा अपनी तेरहवीं करने वाला शख्स, Death After Funeral

बताया जा रहा है कि हाकिम सिंह नाम के व्यक्ति ने हाल ही में 800 लोगों को अपना मृत्युभोज कराया था, उसकी 2 दिन बाद ही मौत हो गई है। जिसके बाद लोग हैरान हैं। लोगों का ये भी कहना है कि हाकिम सिंह को पहले ही मृत्यु का आभास हो गया था, जिसकी वजह के पहले ही मृत्यु भोज करा दिया था। अपने परिवार की बेरूखी और अपने अकेलेपन से परेशान 55 वर्षीय हाकिम सिंह ने ये कदम उठाया था। हाकिम सिंह यादव की अपने परिवार से नहीं बनती थी, इसलिए उसे आशंका थी कि शायद परिवार वाले उसका मृत्युभोज न दें। अतः उसने स्वयं ही अपनी तेरहवीं कर डाली थी।

हाकिम ने कुछ समय पूर्व एक युवती से शादी भी की थी। लेकिन उसकी शादी ज्यादा दिन नहीं टिक सकी और उसकी पत्नी उसे छोड़कर चली गई। जिससे उसके जीवन में फिर से सूनापन आ गया। अपने जीवन से आजिज़ आकर उसने अपना मृत्युभोज करने का निर्णय किया और इसके लिए अपनी साढ़े 5 बीघा जमीन में से 10 बिस्वा जमीन बेचकर इस कार्यक्रम का आयोजन किया।

Death After Funeral: जमीन बेचकर हाल ही में किया था अपना मृत्युभोज

एटा के सकीट थाना क्षेत्र के गांव मुंशीनगर के रहने वाले एक व्यक्ति हाकिम सिंह यादव ने जीते जी ही अपना मृत्युभोज कर डाला और कमाल की बात है इसमें 800 लोग भी शामिल हुए। इसके लिए उसने बकायदा कार्ड छपवा कर लोगों को तेरहवीं के भोज के लिए आमंत्रित किया। उसके इस निमंत्रण पर भारी मात्रा में लोग भोजन करने पहुंचे भी। इस भोज का इंतजाम करने के लिए उसने पैसे की व्यवस्था अपनी जमीन बेचकर की। इस कार्यक्रम के लिए उसने अपनी जमीन में से 10 बिस्वा जमीन बेच दी।

क्रिकेट के अनूठे नियम: जिनसे दर्शक क्या खिलाड़ी भी हो जाते हैं कंफ्यूज

ग्रेटर नोएडा– नोएडा की खबरों से अपडेट रहने के लिए चेतना मंच से जुड़े रहें।

देश-दुनिया की लेटेस्ट खबरों से अपडेट रहने के लिए हमें  फेसबुक  पर लाइक करें या  ट्विटर  पर फॉलो करें।

Related Post