Tuesday, 28 May 2024

गुड्डू जमाली ने बसपा का दामन छोड़कर थामा सपा का हाथ

Uttar Pradesh News : लोकसभा चुनाव से पहले बहुजन समाज पार्टी एक बार फिर बड़ा झटका लगा है। इस बार…

गुड्डू जमाली ने बसपा का दामन छोड़कर थामा सपा का हाथ

Uttar Pradesh News : लोकसभा चुनाव से पहले बहुजन समाज पार्टी एक बार फिर बड़ा झटका लगा है। इस बार बसपा नेता और आजमगढ़ से लोकसभा चुनाव में प्रत्याशी रहे शाह आलम गुड्डू जमाली  बसपा का दामन छोड़कर, समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए है। जमाली के सपा में शामिल होने पर समाजवादी पार्टी के नेता शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि हमेशा उनका सम्मान रहेगा।

शिवपाल ने किया स्वागत

सपा नेता शिवपाल यादव ने कहा आज यानी 28 फरवरी को भारतीय जनता पार्टी ने देश के सामने संकट पैदा किया है। संविधान को बदलने की नीयत है और इसी के साथ-साथ पूरी तरह से लोकतंत्र की जितनी भी मान्यताएं थी उनको समाप्त करने की कोशिश की है तो देश के बचाने का काम पीडीए के लोग करेंगे ही। पीडीए के साथ-साथ देश में सबसे दुखी किसान, नौजवान और मुसलमान है, उसकी लड़ाई हम सब लोग मिलकर लड़ेंगे। शिवपाल ने आगे कहा कि भाजपाई राम की कसम खाते है, लेकिन राम की झूठी कसम खाते है। हम भी राम को मानते हैं, लेकिन हम राम के नाम पर झूठ नहीं बोलते। आज हम गुड्डू जमाली और उनके साथ आए सभी का स्वागत करते हैं।

 कौन है गुड्डू जमाली?

गुड्डू जमाली आजमगढ़ में स्थित मुबारकपुर के निवासी हैं। साल 2022 में उन्होंने आजमगढ़ लोकसभा सीट पर हुए उपचुनाव में बसपा की ओर से टिकट लेकर चुनाव लड़ा था। जबकि सपा की ओर से यहां अखिलेश यादव के चचेरे भाई धर्मेंद्र यादव को प्रत्याशी बनाया था। इस उपचुनाव में धर्मेंद्र यादव को हार का सामना करना पड़ा था और बीजेपी के दिनेश लाल निरहुआ चुनाव जीत गए थे।

Uttar Pradesh News

हमारा PDA परिवार बढ़ता चला जा रहा है

वहीं अखिलेश यादव ने कहा कि ‘मुझे खुशी है कि हमारा PDA परिवार बढ़ता चला जा रहा है और जितना परिवार बढ़ेगा उतनी मजबूती से हम बीजेपी को हटाने का काम करेंगे. गुड्डू जमाली कारोबार करते हैं और कारोबार वाले धार्मिक भेदभाव नहीं करते. इसलिए मुझे खुशी है कि एक मजबूत नेता हमारे साथ जुड़ रहे हैं.

आजमगढ़ सीट समाजवादी पार्टी का गढ़

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि आजमगढ़ सीट समाजवादी पार्टी का गढ़ रही है। 2019 में इस सीट पर अखिलेश यादव की जीत हुई थी लेकिन यूपी विधानसभा चुनाव के बाद जब उन्होंने इस सीट से इस्तीफा दिया तो उपचुनाव में ये सीट सपा के हाथ से फिसल गई थी। धर्मेंद्र यादव की हार के पीछे गुड्डू जमाली सबसे बड़ी वजह बने थे। इस उपचुनाव में बीजेपी के दिनेश लाल निरहुआ 3,12,768 वोट मिले। जबकि सपा उम्मीदवार धर्मेंद्र यादव को 3,04,089 वोट और गुड्डू जमाली को 2,66,210 मिले। अगर बसपा ने उन्हें खड़ा नही किया होता यहां से सपा की जीत हो सकती थी।Uttar Pradesh News

हिमाचल में सुक्खू की गई कुर्सी, बनेगा नया मुख्यमंत्री

ग्रेटर नोएडा – नोएडा की खबरों से अपडेट रहने के लिए चेतना मंच से जुड़े रहें।

देशदुनिया की लेटेस्ट खबरों से अपडेट रहने के लिए हमें  फेसबुक  पर लाइक करें या  ट्विटर  पर फॉलो करें।

Related Post