Tuesday, 21 May 2024

सारे विश्लेषक फेल कर दिए हैं “कुण्डा नरेश” राजा भैया ने, नेता भी परेशान

UP News : “कुण्डा नरेश” के नाम से प्रसिद्ध उत्तर प्रदेश के बाहुबली नेता रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया…

सारे विश्लेषक फेल कर दिए हैं “कुण्डा नरेश” राजा भैया ने, नेता भी परेशान

UP News : “कुण्डा नरेश” के नाम से प्रसिद्ध उत्तर प्रदेश के बाहुबली नेता रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया ने बड़ा दांव चल दिया है। राजा भैया के दांव में उत्तर प्रदेश की राजनीति उलझकर रह गई है। राजा भैया ने उत्तर प्रदेश के बड़े-बड़े राजनीतिक विश्लेषकों को फेल कर दिया है। उत्तर प्रदेश के नेता भी समझ नहीं पा रहे हैं कि आखिर राजा भैया भाजपा के साथ हैं या समाजवादी पार्टी (सपा) उत्तर प्रदेश के राजा भैया की पहली पसंद बन गई है?

किसी को समर्थन नहीं का चला दांव

उत्तर प्रदेश की राजनीति में हमेशा चर्चा का विषय रहने वाले राजा भैया ने ना ईधर ना उधर वाला दांव चला है। मंगलवार को उत्तर प्रदेश के कुंडा से विधायक और जनसत्ता दल लोकतांत्रिक के राष्ट्रीय अध्यक्ष का लोकसभा चुनाव को लेकर बड़ा फैसला किया है। रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया ने लोकसभा चुनाव में किसी भी पार्टी को समर्थन देने से इनकार कर दिया है. बताया जा रहा है कि उन्होंने ये फैसला अपने समर्थकों की मांग के बाद लिया है।

दरअसल, राजा भैया मंगलवार को बेंती में चुनावी बैठक को संबोधित करने पहुंचे थे। इसी दौरान उनके समर्थकों ने किसी भी पार्टी को अपना समर्थन देने की मांग की थी। इसके बाद उन्होंने फैसला किया कि वो यानी जनसत्ता दल लोकतांत्रिक दल प्रतापगढ़ और कौशांबी लोकसभा सीट पर किसी भी पार्टी के प्रत्याशी को समर्थन नहीं देगी। साथ ही उन्होंने कुंडा और बाबागंज की जनता से योग्य उम्मीदवार को वोट देने की अपील की है। उन्होंने दावा किया कि प्रतापगढ़ लोकसभा सीट पर कुंडा और बाबागंज विधानसभा की जनता जीत और हार तय करती है। बीते हफ्ते राजा भैया ने गृहमंत्री अमित शाह से बेंगलुरु में मुलाकात की थी। उनकी गृह मंत्री से इस मुलाकात के बाद राजा भैया के प्रभाव वाली सीटों को लेकर राजनीतिक चर्चा तेज हुई थी कि वो भाजपा को अपना समर्थन दे सकते हैं। हालांकि, आज बेंती में हुई बैठक के बाद उन्होंने साफ कर दिया है कि वो लोकसभा चुनाव में किसी भी पार्टी को अपना समर्थन नहीं देंगे।

सभी मांगने गए थे समर्थन

उत्तर प्रदेश की राजनीति के केन्द्र में रहने वाले राजा भैया ने खुद ही बताया है कि सपा-बसपा और भाजपा ने उनसे समर्थन मांगा था, लेकिन उनके समर्थकों ने किसी भी पार्टी को समर्थन न देने की अपील की थी। जिसके बाद उन्होंने ये फैसला किया है. वहीं, राजा भैया के किसी भी पार्टी को समर्थन न देने के फैसले ने सभी पार्टियों में हलचल पैदा कर दी है।

बता दें कि लोकसभा चुनाव के चार चरणों में अब तक 39 सीटों पर मतदान हो चुका है। पहले चरण में सहारनपुर, कैराना, मुजफ्फरनगर, बिजनौर, नगीना, मुरादाबाद, रामपुर और पीलीभीत में वोट डाले गए थे। दूसरे चरण में अमरोहा, मेरठ, बागपत, गौतमबुद्ध नगर, बुलंदशहर, अलीगढ़, मथुरा, गाजियाबाद में वोटिंग हुई थी। तीसरे चरण में संभल, हाथरस, आगरा, फतेहपुर सीकरी, फिरोजाबाद, मैनपुरी, एटा, बदायूं, आंवला, बरेली में वोटिंग हुई थी। चौथे चरण में शाहजहांपुर, खीरी, धौरहरा, सीतापुर, हरदोई, मिश्रिख, उन्नाव, फर्रुखाबाद, इटावा, कन्नौज, कानपुर, अकबरपुर और बहराइच में मतदान हो चुका है। आने वाले चरणों में बाकी बची हुई सीटों पर वोटिंग होनी है। वहीं, प्रतापगढ़ लोकसभा सीट पर छठे चरण यानी 25 मई को वोटिंग होगी।

विश्लेषक कर दिए फेल

उत्तर प्रदेश की राजनीति का विश्लेषण करने वाले विश्लेषक इस मामले में पूरी तरह फेल हो गए हैं। दरअसल हाल ही में केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह के साथ राजा भैया की कर्नाटक में मुलाकात हुई थी। इस मुलाकात के बाद उत्तर प्रदेश के तमाम विश्लेषक दावा कर रहे थे कि रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया लोकसभा चुनाव में भाजपा का समर्थन करेंगे। राजा भैया ने किसी भी दल का समर्थन ना करने का घोषणा करके उत्तर प्रदेश के विश्लेषकों, उत्तर प्रदेश के बड़े-बड़े नेताओं यहां तक कि उत्तर प्रदेश की जनता को भी हैरान कर दिया है। किसी की भी समझ में नहीं आ रहा है कि राजा भैया ने सीधे-सीधे समर्थन ना करके गोल-मोल फैसला क्यों किया है। दावा यह भी किया जा रहा है कि राजा भैया उत्तर प्रदेश में भाजपा के दो सांसदों से बेहद खफा हैं। उन्हीं सांसदों के कारण राजा भैया ने भाजपा का समर्थन करने की घोषणा नहीं की है। इस बीच चर्चा है कि अंदरखाने राजा भैया समाजवादी पार्टी की मदद करने में लग गए हैं।

यूपी के जेल में बंद कैदी की मौत, जेल प्रशासन पर उठे सवाल

ग्रेटर नोएडा – नोएडा की खबरों से अपडेट रहने के लिए चेतना मंच से जुड़े रहें।

देशदुनिया की लेटेस्ट खबरों से अपडेट रहने के लिए हमें  फेसबुक  पर लाइक करें या  ट्विटर  पर फॉलो करें।

Related Post