Friday, 23 February 2024

काशी की बहन कहलाने पर गर्व करता है उत्तर प्रदेश का एक जिला

UP News : शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति हो जिसने भगवान शिव की नगरी काशी का नाम न सुना हो।…

काशी की बहन कहलाने पर गर्व करता है उत्तर प्रदेश का एक जिला

UP News : शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति हो जिसने भगवान शिव की नगरी काशी का नाम न सुना हो। यदि आपने काशी का नाम नहीं सुना है तो हम आपको बता देते हैं कि उत्तर प्रदेश के प्रसिद्ध शहर वाराणसी को ही भगवान शिव की नगरी काशी कहा जाता है। वहीं उत्तर प्रदेश में एक जिला ऐसा भी है जिसे काशी की बहन कहा जाता है।

UP के इस खास जिले के लोग अपने जिले को काशी की बहन कहलवाने में गर्व का अनुभव करते हैं। इस लेख में हम आपको बताएंगे कि काशी को बहन वाले जिले का नाम इस जिले को कहते हैं काशी की बहन।

UP News in hindi

भारतीय समाज में एक ही शहर अथवा स्थान को अनेक नाम से बुलाने का चलन है। ऐसा ही चलन उत्तर प्रदेश के पूर्वी भाग में स्थित गाजीपुर शहर तथा गाजीपुर जिले को लेकर है। गाजीपुर जिले को काशी की बहन कहा और बोला जाता है। उत्तर प्रदेश भारत का सबसे बड़ा राज्य है। इस अकेले राज्य की जनसंख्या 25 करोड़ है। इ

सी उत्तर प्रदेश का जिला है गाजीपुर जिला, जिले गाजीपुर के नाम के साथ ही साथ काशी की बहन के नाम से भी जाना जाता है। गाजीपुर जिला बिहार प्रदेश की सीमा से जुड़ा हुआ उत्तर प्रदेश का प्रसिद्ध जिला है।

सबसे बड़े गांव वाला जिला

इतिहासकार बताते हैं कि उत्तर प्रदेश के गाजीपुर शहर की स्थापना तुगलक वंश के शासन काल के दौरान मोहम्मद बिन तुगलक के सेनापति सैययद मसूद गाजी ने की थी। गाजी के नाम पर ही गाजीपुर नाम पड़ा था। अपनी अनेक ऐतिहासिक विरासतों के लिए प्रसिद्ध इसी गाजीपुर जिले को भगवान शिव की नगरी काशी की बहन के नाम से भी जाना जाता है।

गाजीपुर का उत्तर प्रदेश की राजनीति में दबदबा रहा है। गाजीपुर के नागरिक अपने जिले को काशी की बहन कहलाने पर गर्व महसूस करते हैं। गाजीपुर जिले में ही एशिया का सबसे बड़ा गांव भी स्थापित है। उत्तर प्रदेश के गाजीपुर जिले में स्थित गहमर नामक गांव को एशिया का सबसे बड़ा गांव कहा जाता है। गहमर गांव की एक विशेषता यह भी है कि गहमर गांव के प्रत्येक घर का एक व्यक्ति भारतीय सेना में तैनात है।

राजस्थान में सत्ता परिवर्तन के बीच राजपूत समाज के बड़े नेता की हत्या, समाज में आक्रोश

उत्तर प्रदेश की खबरों से अपडेट रहने लिए चेतना मंच के साथ जुड़े रहें।

देश-दुनिया की लेटेस्ट खबरों से अपडेट रहने के लिए हमें  फेसबुक  पर लाइक करें या  ट्विटर  पर फॉलो करें।

Related Post