Saturday, 25 May 2024

खंजर से पूछते हो कि क़ातिल किधर गये ? संसद की घटना पर पूर्व सांसद की बेबाक़ टिप्पणी

Parliament Security Breach : उदय प्रताप सिंह संसद पर जो हमला हुआ है, वह देश के लिए अत्यंत चिंता का विषय…

खंजर से पूछते हो कि क़ातिल किधर गये ? संसद की घटना पर पूर्व सांसद की बेबाक़ टिप्पणी

Parliament Security Breach : उदय प्रताप सिंह

संसद पर जो हमला हुआ है, वह देश के लिए अत्यंत चिंता का विषय है। कुछ दिनों से मीडिया और सोशल मीडिया पर शंका की जा रही थी कि 21 साल बाद 13 दिसंबर को संसद पर फिर हमला हो सकता है। हमारी सिक्योरिटी और जासूसी एजेंसियों ने निश्चित रूप से इस ख़बर के बाद कुछ सुरक्षा के ज़रूरी कदम उठाए होंगे फिर ऐसी घटना कैसे हो गई है। प्रश्न यह है कि यह चार हमलावर जो युवा हैं, और देश के अलग-अलग राज्यों से संबंधित है, वे इस एक साजिश में शामिल कैसे हुए और किसने किए ?

Parliament Security Breach

सरकारी पार्टी के एक सांसद की सिफारिश पर इनको संसद में प्रवेश करने की अनुमति पत्र मिला। आज संसद में प्रधानमंत्री और गृहमंत्री दोनों उपस्थित नहीं थे, ये अच्छी बात थी। ऐसी तारीख़ को बीजेपी के सांसद द्वारा चार युवा हमलावरों को विभिन्न राज्यों से होने के बाबजूद संसद में प्रवेश भी मिल गया। यह सब संयोग हो सकता है लेकिन संयोग है की साजिश है, इसकी जांच पड़ताल गंभीरता से किसी विश्वस्तनीय एजेंसी द्वारा की जानी चाहिए।

Parliament Security Breach

हमलावर देशद्रोही नहीं थे वे वंदे मातरम का भी नारा लगा रहे थे और नहीं चलेगी भी कहते थे। और ग़नीमत है कि सब सब के हिंदू थे, अन्यथा यह देश इस समय एक अभूतपूर्व तनाव से गुज़र रहा होता। हमलावर व्यवस्था के खिलाफ़ भी बोल रहे थे। न्याय प्रक्रिया में एक शब्द होता है सरकमस्टेंशियल एविडेंस यानी स्थिति जन्य गवाही।

अगर इस पर भरोसा किया जाए तो यह नियोजित साजिश थी जिसमें किसी बड़े नेता या नौकरशाह या किसी जिम्मेदार व्यक्ति का हाथ हो सकता है यह पडताल का विषय है। अन्यथा इतनी कड़ी सुरक्षा के कई घेरे पार करके संसद में पहुंचना किसी के लिये आसान काम नहीं है।

बहरहाल यह राष्ट्रीय सुरक्षा का प्रश्न है इसलिए इस पर हमको दलगत राजनीति से ऊपर उठकर विचार करना चाहिए। सबसे पहली बात तो यह है कि जिस संसद की सिफारिश पर इन हमलावरों को संसद में प्रवेश मिला उसकी गिरफ्तारी होनी चाहिए और उससे प्रश्न किया जाना चाहिए कि चार विभिन्न राज्यों के हमलावरों को प्रवेश की सिफारिश करना महज़ संयोग है या साजिश है। क्या आप उन चारों से परिचित थे ?

हालांकि चुनाव के पहले ऐसे काम पहले भी होते आए हैं। यह कोई पहला मामला नहीं है लेकिन राष्ट्रीय सुरक्षा सम्मान और संविधान की रक्षा के हित में हम सबको इस विषय पर एक देशभक्त भारतीय के रूप में सोचना चाहिए।
(लेखक प्रसिद्ध कवि तथा पूर्व सांसद हैं)

संसद की सुरक्षा भेदने वालों ने सोशल मीडिया से जुड़कर बनाया था प्लान

देश विदेश की खबरों से अपडेट रहने लिए चेतना मंच के साथ जुड़े रहें।

देश-दुनिया की लेटेस्ट खबरों से अपडेट रहने के लिए हमें  फेसबुक  पर लाइक करें या  ट्विटर  पर फॉलो करें।

Related Post