Friday, 21 June 2024

भजन लाल भावी सीएम होंगे पार्टी ने दिए थे संकेत, मगर कोई भांप नहीं सका

भजन लाल भावी सीएम: राजस्थान में भी बीजेपी ने सभी को चौंकाते हुए एक नए नाम भजन लाल शर्मा को…

भजन लाल भावी सीएम होंगे पार्टी ने दिए थे संकेत, मगर कोई भांप नहीं सका

भजन लाल भावी सीएम: राजस्थान में भी बीजेपी ने सभी को चौंकाते हुए एक नए नाम भजन लाल शर्मा को नया सीएम बना दिया। पहली बार के विधायक भजन लाल का नाम भले ही मीडिया और लोगों के लिए चौंकाने वाला हो, लेकिन जो लोग पार्टी संगठन या संघ से से जुड़े हैं, वो उनके नाम से अच्छी तरह वाकिफ हैं।

भले ही भजन लाल शर्मा के नाम की घोषणा आज हुई हो, लेकिन पार्टी द्वारा पूर्व में दिए गए संकेतों की विवेचना करें, तो यही लगता है आलाकमान ने पहले ही इस बार कमान भजन लाल को देने का मन बना लिया था। उन्होंने इसके संकेत भी दिए थे, लेकिन कोई भाँप नहीं सका।

शर्मिष्ठा का खुलासा: प्रणब दा जानते थे, उन्हें पीएम नहीं बनाया जाएगा

भजन लाल भावी सीएम का नाम पहले ही सोच लिया था हाइकमान ने

राजस्थान के भावी मुख्यमंत्री भजन लाल का नाम यूं ही नहीं सामने आया, बल्कि पीएम मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड़ड़ा की तिकड़ी ने कई कारणों से पहले ही तय कर रखा था। त्रिमूर्ति ने इसके संकेत भी दिए थे, लेकिन कोई इन संकेतों को समझ नहीं सका। भजन लाल शर्मा का नाम पहले ही तय होने के संकेत जिन बातों से मिलते हैं कि उनमें पहली बात ये है कि जिस होटल में पर्यवेक्षक रुके थे, उसके पास भजन लाल शर्मा का बड़ा सा होर्डिंग टांग दिया गया था।

सुपरस्टार रजनीकांत का जन्मदिन: संघर्ष के दम पर कंडक्टर से इतने बड़े स्टार बने रजनी की कहानी भी है फिल्मी

दूसरा संकेत पार्टी ने उन्हें इस बार के चुनावों में पहली बार टिकट देकर दे दिया। संगठन के अनुभवी चेहरे भजन लाल को न सिर्फ टिकट दिया गया, बल्कि टिकट भी भजन लाल के गृह नगर से न देकर उन्हें एक ऐसी सीट से दिया गया, जहां से उनकी जीत सुनिश्चित हो सके। ताकि उनके सीएम के तौर पर चयन में कोई बाधा न आए।

इसके लिए जयपुर की सांगानेर सीट से सिटिंग एमएलए और वसुंधरा राजे सिंधिया के सहयोगी अशोक लाहोटी का टिकट काटकर उन्हें टिकट दिया गया। लेकिन कोई बीजेपी के शीर्ष नेतृत्व की इस रणनीति को भांप नहीं सका। इसके अलावा एमपी और छत्तीसगढ़ के नामों ने भी ये तय कर दिया था कि राजस्थान में भी एक नए चेहरे को कमान दी जाएगी।

प्रणब मुखर्जी ने राहुल गांधी को क्या सलाह दी थी, जिसे न मानना कांग्रेस को पड़ रहा है भारी

ये हैं वजहें जिनके कारण उन्हें इस पद के लिए चुना गया, भजन लाल भावी सीएम

भजन लाल शर्मा को इस पद के लिए चुने जाने के पीछे कई कारण हैं। पहला कारण तो ये है कि वो संघ, पार्टी संगठन और एबीवीपी (ABVP) से जुड़े रहे हैं, इसलिए उनकी संगठन में पकड़ मजबूत है। दूसरी वजह ये है कि पार्टी को आगामी लोकसभा चुनावों के मद्देनजर जातीय समीकरण को ध्यान में रखते हुए इस बार ब्राह्मण चेहरे को सामने रखना था। जिससे हिन्दी भाषी प्रदेशों को एक संदेश देकर, इसका लाभ लिया जा सके।

महुआ का अगला कदम ये होगा, अपनी सदस्यता वापस लेने के लिए करेंगी प्रयास

तीसरी वजह जो बात उनके पक्ष में गई, वो ये है कि उनका किसी गुट विशेष से कोई संबंध नहीं है। इसलिए वो सर्व स्वीकार्य नेता थे, उनके नाम पर किसी को कोई आपत्ति नहीं थी। चौथी बात जिसका उनको लाभ मिला वो ये है कि वसुंधरा राजे पिछले कुछ समय से शीर्ष नेतृत्व को आंखे दिखाने की कोशिश कर रहीं थीं और पार्टी को उन्हें दरकिनार करना था। साथ ही ये भी ध्यान रखना था कि इससे पार्टी में गुटबाजी न हो।

भजन लाल भावी सीएम

क्रिकेट के अनूठे नियम: जिनसे दर्शक क्या खिलाड़ी भी हो जाते हैं कंफ्यूज

ग्रेटर नोएडा– नोएडा की खबरों से अपडेट रहने के लिए चेतना मंच से जुड़े रहें।

देश-दुनिया की लेटेस्ट खबरों से अपडेट रहने के लिए हमें  फेसबुक  पर लाइक करें या  ट्विटर  पर फॉलो करें।

Related Post