Tuesday, 25 June 2024

बच्चों के इन लक्षणों को ना करें नज़रअंदाज, वरना हो सकते हैं ऑटिज्म का शिकार

Autism Disorder : माता-पिता बच्चों की परवरिश के दौरान उनकी छोटी से छोटी बात का खास ध्यान रखते हैं। ताकि…

बच्चों के इन लक्षणों को ना करें नज़रअंदाज, वरना हो सकते हैं ऑटिज्म का शिकार

Autism Disorder : माता-पिता बच्चों की परवरिश के दौरान उनकी छोटी से छोटी बात का खास ध्यान रखते हैं। ताकि उनका बच्चा सबसे अलग और स्मार्ट बने। लेकिन कई बार माता-पिता बच्चे की परवरिश के दौरान कई बातों का ध्यान रखना भूल जाते हैं जिससे बच्चों को कई दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।  हर मां-बाप बच्चे के शारीरिक और मानसिक बदलावों का खास ख्याल रखना चाहिए। क्योंकि बच्चे अपनी भावनाओं को बता नहीं पाते हैं।

Autism Disorder 

कई बार माता-पिता बच्चों के शारीरिक और मानसिक बदलाव के समय उनका इतना ज्यादा ध्यान नहीं रख पाते हैं। जिसके कारण बच्चों को आगे चलकर  कई तरह की गंभीर समस्याओं का सामना करना पड़ता है। आगे चलकर शिशु को ऑटिज्म (Autism) जैसी गम्भीर बिमारी का सामना करना पड़ता है। जिसके कारण बच्चे को चलने, बोलने के अलावा कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

ऑटिज्म क्या होता है?  What is Autism

ऑटिज्म (Autism) को मेडिकल भाषा में ऑटिज्म स्पेक्ट्रम डिसऑर्डर (Autism Spectrum Disorder) के नाम से कहा जाता है। यह एक ऐसी बिमारी होती है, जिसमें बच्चों की सोशल और कम्यूनिकेशन सहित बिहेवरियल कंडीशन पर भी प्रभाव पड़ता है। आसान शब्दों में कहा जाए तो ऑटिज्म (Autism) को विकास से जुड़ी विकलांगता भी कहा जा सकता है क्योंकि ऑटिज्म (Autism) के कारण बच्चों को नई-नई चीजों को सीखने और काम काज करने और किसी से मेल-मिलाप करने में बेहद परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

ऑटिज्म के लक्षण क्या है? What are the symptoms of autism?

डॉक्टरों का कहना है कि बच्चे पर्यावरणीय और जेनेटिक कारणों ऑटिज्म (Autism) का शिकार हो जाते हैं। चलिए जान लेते हैं कि ऑटिज्म का लक्षण क्या है?

  • हमेशा डरा हुआ महसूस करना।
  • एक ही चीज के लिए बार बार बडबड़ाना।
  • बात करने का तरीका बदलना।
  • बात करते से किसी से नजर न मिलाना।
  • हाथ और शरीर का मूवमेंट प्रभावित होना।
  • कोई बात सुनकर भी रियक्ट न करना।
  • बार बार मुंह बनाना।
  • दूसरे बच्चों से दूर रहना।
  • खानपान से जुड़ी समस्या होना।

अगर आपके बच्चे में भी इस तरह के लक्षण दिखाई दे रहे हैं तो आपको नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। डॉक्टर्स का कहना है बच्चों के इन लक्षणों को सही समय पर पहचान कर डॉक्टर की देखरेख में बच्चे का सही समय पर इलाज करवाने से वो ठीक हो सकते हैं।

ठहरिए: सुबह खाली पेट कॉफी पीना हो सकता है खतरनाक, ध्यान रखें ये बात

देश विदेश की खबरों से अपडेट रहने लिए चेतना मंच के साथ जुड़े रहें।

देश-दुनिया की लेटेस्ट खबरों से अपडेट रहने के लिए हमें  फेसबुक  पर लाइक करें या  ट्विटर  पर फॉलो करें।

Related Post