Friday, 24 May 2024

साइबर अपराधों पर अंकुश को और दक्ष बनेंगे पुलिसकर्मी

नोएडा ।  साइबर अपराधों को प्रभावी अंकुश लगाने तथा पुलिसिंग को साइबर अपराधों के दृष्टिगत अधिक सक्षम व दक्ष बनाने…

साइबर अपराधों पर अंकुश को और दक्ष बनेंगे पुलिसकर्मी

नोएडा ।  साइबर अपराधों को प्रभावी अंकुश लगाने तथा पुलिसिंग को साइबर अपराधों के दृष्टिगत अधिक सक्षम व दक्ष बनाने के उद्देश्य से पुलिस महानिदेशक उ0प्र0  मुकुल गोयल के निर्देशन में कमिश्ररेट में कार्यशाला का आयोजन किया गया। पुलिस कमिश्ररेट गौतमबुद्धनगर के सभी वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों सहित करीब 300 पुलिसकर्मियों ने जूम वेबिनार के माध्यम से प्रशिक्षण लिया। उ0प्र0 में साइबर अपराधों की प्रभावी रोकथाम व सम्बन्धित अपराधों की शिकायतों को लेकर थाने पर आने वाले शिकायतकर्ताओं की समस्याओं के निस्तारण के उद्देश्य से पुलिस महानिदेशक उ0प्र0 के निर्देशन में समस्त जनपदों/कमिश्नरी में साइबरपीस एनजीओ के सहयोग से10 दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। इस कार्यशाला का मुख्य उद्देश्य प्रदेश की पुलिस को साइबर अपराधो से निपटने के दृष्टिगत अधिक सक्षम व दक्ष बनाना है। 10 दिवस तक चलने वाली यह कार्यशाला साइबर सम्बन्धी अपराधों से जुडे हुये विभिन्न शीर्षको पर आयोजित की जायेगी।

 इस प्रशिक्षण कार्यशाला के प्रथम दिन एडीजी लॉ एण्ड आर्डर उ0प्र0, एडीजी साइबर क्राइम उ0प्र0 द्वारा जूम वेबिनार के माध्यम से सभी जनपदों के पुलिस अधिकारियों व कर्मचारियों को साइबर सम्बन्धी विभिन्न अपराध का परिचय शीर्षक से अवगत कराया गया।

इसी क्रम मे पुलिस कमिश्नर गौतमबुद्धनगर  आलोक सिंह के निर्देशन में पुलिस आयुक्त कार्यालय सेक्टर 108 के सभागार में साइबर अपराधों के सम्बन्ध में आयोजित उक्त कार्यशाला का नेतृत्व अपर पुलिस आयुक्त मुख्यालय/अपराध श्रीमती पुष्पांजली द्वारा किया गया।

पुलिस मुख्यालय लखनऊ से आयोजित उक्त कार्यशाला को जूम वेबिनार के माध्यम से जनपद के पुलिस अधिकारियों व कर्मचारियों को प्रशिक्षित किया गया। जिसमें एडीसीपी क्राइम गौतमबुद्धनगर, एडीसीपी सेंट्रल नोएडा व एसीपी साइबर क्राइम की मौजूदगी में करीब 150 पुलिस अधिकारियों/ कर्मचारियों, रिजर्व पुलिस लाइन गौतमबुद्धनगर में करीब 30 पुलिस कर्मियों ने प्रतिभाग किया साथ ही समस्त थानों से भी पुलिसकर्मी वेबिनार के माध्यम से इस प्रशिक्षण कार्यशाला से जुड़े हुए थे।

 आगामी दिनों में यह कार्यशाला प्रत्येक थाने पर आयोजित की जायेगी ताकि कम समय में अधिक से अधिक पुलिसकर्मियों को साइबर सम्बन्धी अपराधों के विषय में प्रशिक्षित किया जा सके।

Related Post