Saturday, 25 May 2024

Sex Education : सेक्स एजुकेशन से बनाएं पूरे जीवन को खुशहाल, अपनाएं ये टिप्स

Sex Education :  यानि यौन शिक्षाा जीवन की सबसे जरूरी शिक्षा है। सारी दुनिया जानती है कि Sex  ही वह…

Sex Education : सेक्स एजुकेशन से बनाएं पूरे जीवन को खुशहाल, अपनाएं ये टिप्स

Sex Education :  यानि यौन शिक्षाा जीवन की सबसे जरूरी शिक्षा है। सारी दुनिया जानती है कि Sex  ही वह साधन है जिसके द्वारा सृष्टिï का हर प्राणी यहां तक कि पेड़-पौधे तक पैदा होते हैं। फूल खिलते हैं वह भी एक सैक्सुअल एक्ट(Sexsual Act )  ही तो है। यानि पूरी सृष्टिï का आधार सेक्स (Sex) ही है। फिर भी हम सेक्स एजुकेशन (Sex Education) को कभी प्राथमिकता ही नहीं देते हैं । यदि आप अपने जीवन को खुशहाल बनाना चाहते हैं  तो कुछ छोटे-छोटे सेक्स टिप्स (Sex Tips)  भी आपके बहुत काम आ सकते है।

Sex Education :

विशेषज्ञों के सेक्स टिप्स (Sex Tips)
सेक्स (Sex) और इससे जुडे हुए विषयों की प्रसिद्घ हस्ती सुश्री सीमा आन्नद बताती हैं कि सेक्स में सम्पूर्ण आनंद प्राप्त करने के लिए फोर प्ले यानि सेक्स शुरू करने से पहले की क्रियाएं बहुत आवश्यक  है।

कामक्रीड़ा पर ही हो पूरा ध्यान!
बिस्तर पर महिला पार्टनर की यौन इच्छा को तृप्त करने के लिए सबसे जरूरी चीज है। फोरप्ले महिलाएं कई तरीके से पुरुषों के प्यार को महसूस करती हैं, जिनमें सबसे ज्यादा इनका ध्यान खींचता है आपके मुंह से की गईं ‘शरारतें’ आंखों में आंखें डालकर प्यार जताना, होठों को संवेदनशील अंगों पर फिराना, किसी और तरीके से देह को छूना महिलाओं को भाता है। जीभ के अगले भाग से नाजुक अंगों का स्पर्श भी महिलाओं का मन मचलने के लिए काफी होता है। कामक्रीड़ा का असली मजा सिर्फ चरम तक पहुंचने पर ही नहीं है, बल्कि इसके हर पल का भरपूर आनंद लेना चाहिए। फोरप्ले इसका अहम पार्ट है, जिसका अपना मजा है। फोरप्ले के दौरान होने वाली उत्तेजना एकदम अलग तरह की होती है। पुरुषों को सेक्स के मामले में थोड़ा क्रिएटिव’ होना चाहिए। कुछ नया और एकदम अलग अंदाज में किया जाना महिलाओं को खूब भाता है।

‘आनंद’ व ‘संतुष्टि’ में फर्क है!
जाने माने संस्थान किंसले इंस्टिट्यूट के एक शोध में यह पाया गया कि पुरुषों के साथ-साथ महिलाओं ने भी यह माना कि उन्हें कंडोम के बिना यौन संबंध ज्यादा अच्छा लगता है। पर महिलाओं ने यह भी माना कि दरअसल संभोग के दौरान कंडोम का इस्तेमाल किए जाने पर उन्हें ज्यादा सुकून मिलता है। यह सुकून ‘प्रोटेक्शन’ को लेकर होता है। सर्वे में शामिल महिलाओं ने कहा कि कंडोम यौन रोगों से बचाव का एक कारगर तरीका है। इसके इस्तेमाल से महिलाएं खुलकर सेक्स का भरपूर मजा ले पाती हैं। सभी महिलाएं यही चाहती हैं कि उसके बेहद कोमल अंगों को शुरुआती दौर में ज्यादा तकलीफ न दी जाए। महिलाएं पुरुषों से चाहती हैं कि वे उसके सेंसिटिव अंगों के साथ संवेदनशीलता से ही पेश आएं। मतलब यह कि संभोग के दौरान वे चाहे तो जीभ व उंगलियों का इस्तेमाल करके जरूरी उत्तेजना पैदा पर कष्ट देने से बाज आएं।

वातावरण का अद्भुत प्रभाव 
सेक्स संभोग के दौरान अनुकूल मौसम व वातावरण न होने की वजह से अनेक पार्टनर चरम तक नहीं पहुंच पाते। दरअसल पुरुषों के ठंडे पन की वजह से उन्हें ज्यादा तकलीफ  होती है। डॉ. होल्सटेज ने बताया कि सेक्स के दौरान वातावरण भी काफी  मायने रखता है। अगर कमरे का तापमान अनुकूल रहता है, तो यह सेक्स का मजा बढ़ा देता है।

सेक्स के दौरान पोजिशन का भी रखें खयाल
सेक्स संबंध बनाने के दौरान पोजिशन का भी खयाल रखना बेहद जरूरी होता है। स्त्री के निचले भाग को अगर दो-तीन तकियों के सहारे थोड़ा-सा और ऊपर उठाकर संभोग किया जाए, तो इससे संसगज़् ठीक से हो पाता है। वह स्थिति भी बेहतर होती है, जब स्त्री लेटे हुए पुरुष के ऊपर आकर संभोग करती है। इससे स्त्रियां ‘उन’ अंगों में ज्यादा उत्तेजना महसूस करती हैं। एक और पोजिशन महिलाओं व पुरुषों को अच्छा लगता है, वह है ‘डॉगी स्टाइल’ मतलब, जिसमें स्त्री घुटनों और हाथों के बल खुद को संतुलित किए रहती है और पुरुष उसके ठीक पीछे जाकर संभोग करता है।

तरीके तो अनेक हैं
ऑस्ट्रेलियन सेक्स रिसचज़्र जूलियट रिचटसज़् कहती हैं कि ज्यादातर युवा महिलाओं का मानना है कि वे अपने पाटज़्नर से चाहती है कि वे सेक्स के दौरान अपने हाथ और मुंह का भी ज्यादा इस्तेमाल करें. उन्हें अपनी किताब के लिए 19 हजार लोगों पर किए गए सरवेज (Survey) के दौरान इस तथ्य का पता चला है। 90 फीसदी  से ज्यादा महिलाओं ने माना कि वे केवल सेक्स के दौरान अपने पार्टनर द्वारा मुख का भी इस्तेमाल किए जाने के बाद चरम तक पहुंचती हैं। रिसर्च में पाया गया कि जब कामक्रीड़ा आरामदायक तरीके से, धीरे-धीरे पर लगातार किया जाता है, तो जोड़े चरम तक जल्दी पहुंच जाते हैं।

जल्दबाजी खतरनाक है!
एक खास सर्वे में शामिल लाखों  महिलाओं में से केवल पचास फीसदी ने कहा कि वे 10 मिनट या इससे कम वक्त में ही चरम तक पहुंच जाती हैं। सेक्स मेडिसिन के एक जर्नल में प्रकाशित स्टडी के मुताबिक, सेक्स में जल्दबाजी दिखलाने पर पुरुष तो संतुष्ट हो जाते हैं, पर महिलाएं चरम तक नहीं पहुंच पाती हैं। ऐसे में पुरुषों की जिम्मेदारी होती है कि वे बिना हड़बड़ी दिखलाए अपनी पार्टनर को लंबे गेम में साथ लेकर चलें।

Sex Education : Sex एजुकेशन जीवन की सबसे बड़ी आवश्यकता है

Related Post