Tuesday, 28 May 2024

Crime: पेन ड्राइव लगाकर हैक करते थे एटीएम, नौ राज्यों की पुलिस कर रही थी तलाश

गाजियाबाद।  इंदिरापुरम कोतवाली पुलिस ने एटीएम हैक करने वाले एक ऐसे गिरोह का खुलासा किया है, जो पलक झपकते ना…

Crime: पेन ड्राइव लगाकर हैक करते थे एटीएम, नौ राज्यों की पुलिस कर रही थी तलाश

गाजियाबाद।  इंदिरापुरम कोतवाली पुलिस ने एटीएम हैक करने वाले एक ऐसे गिरोह का खुलासा किया है, जो पलक झपकते ना केवल एटीएम के सर्वर को हैक कर लेते थे, बल्कि महज कुछ मिनट में ही पूरा का पूरा एटीएम खाली कर देते थे। पुलिस ने अभी इस गिरोह के चार बदमाशों को दबोच लिया है। यह उसी गिरोह के बदमाश हैं जिन्हें करीब तीन माह पहले नोएडा पुलिस ने पकडा था, लेकिन 20 लाख की नगदी और एक क्रेटा कार लेकर इन्हें जाने दिया था। अब इस गिरोह का खुलासा होने के बाद गाजियाबाद के साथ नोएडा पुलिस मामले की जांच में जुट गई है। वहीं मामला कई राज्यों का होने की वजह से एसटीएफ भी अपने स्तर पर छानबीन कर रही है। पुलिस अधिकारियों के मुताबिक पकडे गए चारो बदमाश अंडर ग्रेजुएट हैं। इनमें भी केवल एक ही बदमाश ने इंटरमीडिएट तक पढाई की है। जबकि एक बदमाश तो आठवीं भी पास नहीं कर पाया। इन बदमाशों से काफी पूछताछ के बाद भी यह साफ नहीं हो सका है कि यह बदमाश कितने समय से वारदातों को अंजाम दे रहे है। लेकिन इनके पास से मिले सबूतों और कबूलनामे में इनके करीब दो साल से वारदात करने की बात सामने आई है। इस अवधि में इन बदमाशों ने करीब 400 एटीएम हैक किए हैं। वहीं इन एटीएम से करीब डेढ करोड़ रुपयों की निकासी की है।

पेन ड्राइव लगाकर हैक करते थे एटीएम

क्षेत्राधिकारी इंदिरापुरम अभय कुमार मिश्रा के मुताबिक गिरोह के दो बदमाश एटीएम मशीन में पेन ड्राइव लगाते थे। ऐसा करते ही रिमोट के जरिए एटीएम का एक्सेस कहीं दूर बैठे गिरोह के मास्टर माइंड के पास आ जाता था। वहीं वह अपने कंप्यूटर में एटीएम की प्रासेसिंग शुरू कर जितनी बार एंटर बटन दबाता था, यहां एटीएम मशीन हर बार में 20 हजार रुपये उगल देती थी। उन्होंने बताया कि इस गिरोह ने महज दो साल में करीब 400 से अधिक एटीएम मशीन को हैक कर करीब दो अरब से अधिक रुपयों की हेराफेरी की है।

तीन माह पहले पकडे गए थे बदमाश

गाजियाबाद में पकडे गए चार में से दो बदमाश करीब तीन महीने पहले नोएडा में पकडे गए थे। सूत्र बताते है कि उस समय इन बदमाशों ने पुलिस से सेटिंग कर ली और नोएडा के ही एक एटीएम से निकाले गए 20 लाख रुपये और एक क्रेटा गाडी पुलिस को देकर छूट गए थे। गाजियाबाद पुलिस की पूछताछ में बदमाशों ने इस पूरे घटनाक्रम का ब्यौरा दिया है। इस ब्यौरे के आधार पर नोएडा पुलिस के डीसीपी क्राइम ने जांच शुरू कर दी है। उधर, गाजियाबाद में एसपी क्राइम दीक्षा शर्मा मामले की जांच कर रही है। जबकि मामले कई राज्यों का होने की वजह से यूपी एसटीएफ भी मामले की छानबीन कर रही है।

वारदात के बाद करते थे अय्याशी

पुलिस की पूछताछ में बदमाशों ने बताया कि ये वारदात में मिली रकम को ये बदमाश अपनी भूमिका के मुताबिक बांट लेते थे। इसके बाद प्राप्त रकम से जमकर नशाखोरी और अय्याशी करते थे और पैसा खत्म होने की स्थिति में एक बार फिर से नए शिकार की तलाश में लग जाते थे। इनकी गिरपफतारी भी अय्याशी करने के दौरान हुई।

Related Post