Sunday, 16 June 2024

सुप्रीम कोर्ट में नवयुक्त जस्टिस का शपथ ग्रहण समारोह

सुप्रीम कोर्ट में मंगलवार करीब 11 बजे 9 नवनियक्त न्यायाधीशों की शपथ ग्रहण करवाई गई है। इस कार्यक्रम में मुख्य…

सुप्रीम कोर्ट में नवयुक्त जस्टिस का शपथ ग्रहण समारोह

सुप्रीम कोर्ट में मंगलवार करीब 11 बजे 9 नवनियक्त न्यायाधीशों की शपथ ग्रहण करवाई गई है। इस कार्यक्रम में मुख्य न्यायाधीश एनवी रमणा ने सभी नवनियुक्त जस्टिस को शपथ दिलाई। जानकारी के मुताबिक इस आयोजन को प्रगति मैदान मैट्रो स्टेशन के पास अतिरिक्त भवन परिसार यानि सुप्रीम कोर्ट के नये सभागार में संपन्न किया गया। इस फैसले को कोविड प्रोटोकॉल का पालन करने के मद्देनजर रखा गया है। सुप्रीम कोर्ट में जारी किए गए बयान के अनुसार 70 साल के बाद इतिहास में पहली बार 9 नवनिसुक्त जस्टिस ने एक साथ शपथ ली। बता दें कि 17 अगस्त 2021 को शीर्षस्थ अदालत में 9 नवनियुक्त जस्टिस की सिफारिश की गई थी। इसके बाद 26 अगस्त को केंद्र सरकार ने मंजूरी दे दी थी। मंजूरी मिलने के बाद राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने नियुक्ति पत्रों पर हस्ताक्षर कर दिए थे। जानकारी के अनुसार पिछले शीर्ष में जस्टिस की कुल संख्या 24 थी जबकि 10 पद रिक्त थे। हाल ही 9 जस्टिस की शपथ ली गई है। बताया गया कि एक पद को रिक्त रखा गया है। इस कार्यक्रम के हिस्सेदारी में कर्नाटक हाईकोर्ट की तीसरी सबसे वरिष्ठतम न्यायाधीश नागरत्ना के अलावा गुजरात हाईकोर्ट की पांचवीं सबसे वरिष्ठ न्यायाधीश बेला एम त्रिवेदी और तेलंगाना हाईकोर्ट की मुख्य न्यायाधीश हेमा कोहली को भी सु्प्रीम कोर्ट में नियुक्त किया गया हैष सके अलावा न्यायमूर्ति कोहली 62 वर्ष की आयु होने पर एक सितंबर को सेवानिवृत्त होने वाली थीं क्योंकि हाईकोर्ट के न्यायाधीश 62 वर्ष की आयु में सेवानिवृत्त होते हैं, लेकिन सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीशों की सेवानिवृत्ति के लिए आयु 65 वर्ष है। तीन महिला न्यायाधीशों के अलावा केरल हाईकोर्ट के न्यायाधीश सीटी रवि कुमार और मद्रास हाईकोर्ट के न्यायाधीश एम एम सुंदरेश को भी शीर्ष अदालत में नियुक्त किया गया है। बता दें कि सॉलिसिटर जनरल पी एल नरसिम्हा को छटे रूप में नियुकित किया गया है। इसी कड़ी में न्यायमूर्ति कोहिली, न्यायमूर्ति अभय श्रीनिवास, न्यायमूर्ति विक्रम नाथ और न्यायमूर्ति जितेंद्र कुमार शामिल है। मुख्य जस्टिस नागरत्ना का जन्म 30 अक्टूबर 1962 को हुआ था। मुख्य न्यायधीश वेंकटरमैया की सुपुत्री है। परिवार के संस्कार उन्हें न्याय पालिका की ओर खींच ले गए।

Related Post