Friday, 14 June 2024

मुख्यमंत्री योगी जन्माष्टमी मनाने पहुंचेंगे मथुरा

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज मथुरा में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी मनाने के लिए करीब 3 बजे बांकेबिहारी मंदिर और कृष्ण जन्मस्थली में…

मुख्यमंत्री योगी जन्माष्टमी मनाने पहुंचेंगे मथुरा

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज मथुरा में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी मनाने के लिए करीब 3 बजे बांकेबिहारी मंदिर और कृष्ण जन्मस्थली में पहुंचेंगे। इस दौरान वे रामलीला ग्राउंड में आयोजित होने वाले सांस्कृतिक कार्यक्रमों का हिस्सा बनेंगे साथ ही भगवान श्री कृष्ण के दर्शन करेंगे। बता दें कि भगवान विष्णु के आठवें अवतार श्री कृष्ण के जन्मोत्सव को लेकर आज पूरे देश में उत्साह और उमंग की लहर दौड़ रही है। अपने आराध्य के जन्मदिवस पर लोगों के चेहरे पर अलग ही खुशी झलक रही है। ऐसा ही मंजर भगवान कृष्ण की जन्मस्थली मथुरा में देखने को मिल रहा है। यहां आज भक्तों का तांता लगा हुआ है। कन्हैया की नगरी से आ रही तस्वीरों को मुताबिक पूरे धाम को दुल्हन की तरह सजाया गया है। मंदिरों में आज साज-सज्जा के साथ मिठाई और पकवानों का भी इंतजाम किया गया है। जिसे प्रसाद स्वरुप भक्तों में वितरित किया जाएगा। बता दें, अपने लड्डू गोपाल के जन्मोत्सव का साक्षी बनने के लिए हजारों की तादाद में भक्तों का हुजूम मथुरा पहुंच चुका है। लोगों के बीच अलग ही उत्साह नजर आ रहा है, माहौल पूरा भक्तिमय हो चुका है। वहीं, देशवासियों के सबसे प्रिय त्योहार श्री कृष्ण जन्माष्टमी के मौके पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने सभी को शुभकामनाएं देते हुए ट्वीट किया है। उन्होंने लिखा, जन्माोष्ट मी के शुभ अवसर पर सभी देशवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं। इसी के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जन्माष्टमी के शुभ अवसर पर देशवासियों को बधाई देते हुए ट्वीट किया कि “आप सभी को जन्माष्टमी की ढेरों शुभकामनाएं. जय श्रीकृष्ण!” वहीं, यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी प्रदेशवासियों को भगवान कृष्ण के जन्म दिवस के उपलक्ष में बधाई दी है। दरहसल हिंदू पंचांग के अनुसार भाद्रपक्ष के कृष्णपक्ष की अष्टमी को कन्हैया का जन्म दिवस मनाया जाता है। हर साल की भांति इस बार भी अर्धरात्रि के संयोग जुड़ रहे है। ग्रहस्थ में जन्मदिवस 8-9 बजे तक मना लिया जाता है जबकि प्रसिद्ध मंदिरों में अर्धरात्रि को ही मनाया जाता है। उस दौरान रोहिणी नक्षत्र और चंद्रमा के वृषभ राषि में गोचर होने के संयाग है।

Related Post