Monday, 24 June 2024

भारत में पैदा हुई प्याज से पेट भरेंगे 6 देशों के करोड़ों लोग, निर्यात होगी प्याज

Indian Onion : आपने बिल्कुल ठीक पढ़ा है। भारत (India) में पैदा होने वाली प्याज (Onion) से 6 देशों के…

भारत में पैदा हुई प्याज से पेट भरेंगे 6 देशों के करोड़ों लोग, निर्यात होगी प्याज

Indian Onion : आपने बिल्कुल ठीक पढ़ा है। भारत (India) में पैदा होने वाली प्याज (Onion) से 6 देशों के करोड़ों लोग अपना पेट भरेंगे। आप कह सकते हैं कि कहीं प्याज से भी पेट भरा जाता है क्या? शायद आपको पता नहीं कि भारत के करोड़ों लोग आज भी प्याज और रोटी (गन्ठा-रोटी) से पेट भर लेते हैं। अथवा प्याज की चटनी या फिर प्याज की सब्जी से काम चला लेते हैं। अब मुख्य बिन्दु पर आ जाते हैं। भारत की सरकार ने दुनिया के 6 देशों के पास 99 हजार 500 टन प्याज भेजने का फैसला किया है।

इन देशों के लोग खाएंगे भारत की प्याज (Onion)

भारत सरकार ने तय किया है कि जल्दी ही दुनिया के 6 देशों में 99500 टन प्याज (Onion) का निर्यात किया जाएगा। यह प्याज भारत अपने पड़ोसी देश बांग्लादेश, संयुक्त अरब, अमीरात, भूटान, बहरीन, मॉरीशस तथा श्रीलंका (Bangladesh, United Arab Emirates, Bhutan, Bahrain, Mauritius and Sri Lanka) को भेजेगा। यानि दुनिया के इन 6 देशों के नागरिकों का पेट भारत की प्याज खाकर भरने वाला है। 99 हजार 500 टन प्याज भारत में पैदा होने वाली सामान्य प्रजाति की प्याज है। इसके अलावा भारत में केवल निर्यात के लिए उगाई जाने वाली सफेद प्यार का भी निर्यात किया जाएगा।

Indian Onion

भारत सरकार ने की प्याज (Onion) भेजने की घोषणा

भारत सरकार ने शनिवार को छह देशों को 99,150 टन प्याज भेजने की अनुमति दी है। निर्यात पर प्रतिबंध के बावजूद उसने यह फैसला किया है। केंद्र ने पश्चिम एशिया और कुछ यूरोपीय देशों के बाजारों के लिए विशेष रूप से उगाए गई 2,000 टन सफेद प्याज के निर्यात की भी अनुमति दी है। महत्वपूर्ण बात यह है कि भारत में प्याज के रेट बेतहाशा बढ़ जाने के कारण भारत सरकार ने आठ दिसंबर, 2023 को प्याज के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया था। उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रालय ने कहा कि सरकार ने छह देशों को 99,150 टन प्याज के निर्यात की अनुमति दी है। इनमें बांग्लादेश, यूएई, भूटान, बहरीन, मॉरीशस और श्रीलंका शामिल हैं।पिछले साल की तुलना में 2023-24 में खरीफ और रबी की पैदावार कम होने के अनुमान के चलते पर्याप्त घरेलू उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए निर्यात प्रतिबंध लगाया गया है। बीते साल प्याज का उत्पादन कम होने से घरेलू बाजार में कीमतें बढ़ गई थीं। इस प्रतिबंध ने भारतीय किसानों को नुकसान पहुंचाया। उन्हें अपनी फसल के लिए कम दाम मिले। इन देशों को प्याज निर्यात करने वाली एजेंसी राष्ट्रीय सहकारी निर्यात लिमिटेड (एनसीईएल) ने ई-प्लेटफॉर्म के जरिये निर्यात के लिए घरेलू प्याज मंगाया है। उपभोक्ता मामले विभाग के प्राइस स्टैबलाइजेशन फंड (पीएसएफ) के तहत रबी-2024 में से प्याज की बफर खरीद का लक्ष्य इस साल 5 लाख टन तय किया गया है। Indian Onion

नोएडा में फिर चला ‘बाबा का बुलडोजर’

ग्रेटर नोएडा – नोएडा की खबरों से अपडेट रहने के लिए चेतना मंच से जुड़े रहें।

देशदुनिया की लेटेस्ट खबरों से अपडेट रहने के लिए हमें  फेसबुक  पर लाइक करें या  ट्विटर  पर फॉलो करें।

Related Post