Sunday, 16 June 2024

तालिबान की सत्ता में भारत की क्या भूमिका

तालिबान शासन के बाद दुनिया में खौफ का माहौल बन गया है। अमेरिकी को काबुल से जाने के बाद आंतकियों…

तालिबान की सत्ता में भारत की क्या भूमिका

तालिबान शासन के बाद दुनिया में खौफ का माहौल बन गया है। अमेरिकी को काबुल से जाने के बाद आंतकियों की बर्बरता को स्पष्ट देखा गया है। बता दें कि अमेरिकी सैन्य बल एयरपोर्ट से निकला कि तालिबानियों ने जश्न के साथ सजाए मौत का फरमान सुनाना शुरू कर दिया है। सूत्रों के मुताबिक कतर की राजधानी दोहा में भारत के राजदूत की तालिबानियों के एक्सपर्ट से मुलाकात हुई। दरहसल भारत और तालिबान के बीच ये पहली औपचारिक मुलाकात है।


जानकारी के अनुसार भारत के राजदूत दीपक मित्तल और दोहा के राजनीतिक एक्सपर्ट मोहम्मद अब्बास स्टेनकजई के बीच हुई मुलाकात में अफागनिस्तान में फंसे भारतीयों को सुरक्षित वापस लाने की चर्चा की गई। वहीं भारत ने कहा कि अफगानिस्तान की जमींन पर आतंकियों की क्रूरता को बर्दास्त नहीं किया जाएगा।


गौरतलब है कि इस मुलाकात का आमंत्रण तालिबान ने भारत को दिया था। इस मुलाकात को भारत के राजदूत ने सार्वजनिक किया है। मुलाकात के बाद सवाल उठ रहा है कि, क्या भारत तालिबान को सत्ता कि मान्यता देगा। जबकि तालिबान पाकिस्तान को दूसरा घर बता चुका है। उसकी मानवियता भारत को क्षेत्रिय ताकत के बतौर समझता है।


शेर मोहम्मद अब्बास तालिबान शासन के विदेश मंत्री बन सकते है। इन्होंने देहरादून के इंडियन मिलिट्री एकेडमी में ट्रेनिंग ली थी। कयास ये लगाया जा रहा है कि अब्बास के भारत से रिश्ते आगे काम आ सकते है।


अफगानिस्तान संकट के दौर में एक्सपर्ट ने बताया कि भारत दो बड़ी गलती कर गया है, जिनमें सबसे पहली गलती कि अमेरिका को अपना सरक्षंक बनाया, जो भगोड़ों में शामिल है। दूसरी गलती अमेरिका पर भरात का आत्म विश्वास इतना गहरा है कि वो कभी भी बीच मझधार में छोड़ सकता है। भारत ने यूएस के मुताबिक अपना दांव लगाया, ये सबसे बड़ी भूल है।


हाल ही में मिली जानकारी के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अफगान में फंसे भारतीयों को वापस लाने के लिए एक स्पेशल टीम का गठन किया है। वो ग्रुप तालिबान की क्रूरता पर भी नजर रखेंगा साथ ही नागरिकों को सही सलामत वापस पहुंचाएगा। इस मामले को लेकर पीएम मोदी ने जर्मनी की चांसलर एंजेला से फोन पर बात की है।

Related Post