Thursday, 13 June 2024

Kanjhawala Death Case : साधारण जिंदगी ज़ी रहे थे आरोपी, पड़ोसियों को नहीं हो रहा यकीन

दिल्ली के कंझावाला क्षेत्र में हुई घटना (Kanjhawala Death Case) में संलग्न आरोपियों के रिश्तेदारों से जब बात की गयी…

Kanjhawala Death Case : साधारण जिंदगी ज़ी रहे थे आरोपी, पड़ोसियों को नहीं हो रहा यकीन

दिल्ली के कंझावाला क्षेत्र में हुई घटना (Kanjhawala Death Case) में संलग्न आरोपियों के रिश्तेदारों से जब बात की गयी तो आरोपियों की एक अलग ही जिंदगी के बारे में पता चला। प्राप्त जानकारी के आधार पर यह विश्वास करना मुश्किल हो रहा है कि ऐसे सामान्य जीवन जीने वाले लोग इतना बड़ा और वीभत्स कार्य कैसे कर सकते हैं? या फिर अगर उन्होंने ऐसी दर्दनाक घटना को अंजाम दिया है तो वे ऐसा साधारण जीवन कैसे जी सकते हैं? आइये जानते हैं कि पड़ोसियों और रिश्तेदारों से बातचीत करने पर क्या पता लगा आरोपियों के बारे में…

अमित खन्ना एवं दीपक खन्ना

अमित और दीपक खन्ना की बुआ निर्मला खन्ना से जब मिलने पहुंचे तो वे एक साधारण से घर में अपने बिस्तर पर लेटी हुईं थीं। जब उनसे अमित और दीपक के बारे में पूछा गया तो वे बोलीं कि दोनों लड़के उनके सामने ही पैदा हुए थे और वे कम ही पढ़े लिखे थे। अमित ने 12वीँ तक पढ़ाई की और दीपक केवल 8वीँ तक पढ़ा था। उन्होंने बताया कि अमित बैंक में कुछ कुछ काम करता था और वहीं दीपक ग्रामीण सेवा में एक ड्राइवर का काम करता था।

अमित के पड़ोसियों ने भी बताया कि वो किसी ऑफिस में काम करता था और रोज़ समय से आता जाता था। उन्हें वो एक पढ़ा लिखा लड़का लगता था और उन्हें अमित से ऐसी किसी घटना (Kanjhawala Death Case) की उम्मीद नहीं थी।

मिथुन

26 साल का मिथुन एक हेयर ड्रेसर है और उसकी घर से काम पर और काम से वापस घर की रोज़ की कहानी थी। मिथुन का बड़ा भाई एक RO फिटिंग और रिपेयरिंग का काम करता है और एक बहन है जिसकी शादी हो चुकी है। मिथुन के घर के पास के लोगों ने बताया कि उन्हें यकीन नहीं हो रहा कि देश के सबसे चर्चित काण्ड (Kanjhawala Death Case) का आरोपी मिथुन भी है।

कृष्णा

27 साल का कृष्णा जो (Kanjhawala Death Case) के आरोपियों में शामिल है, वह भी एक साधारण से परिवार से आता है जिसका कोई क्राइम रिकॉर्ड, शराब पीना, लड़ाई झगड़ा आदि से लेना देना नहीं है। कृष्णा के पिता एस ब्लॉक में फल की दुकान लगाते हैं और वह खुद भी कनॉट प्लेस में एक स्पेनिश कल्चर सेंटर में काम करता था।

मनोज मित्तल

कृष्णा विहार में रहने वाले मनोज मित्तल का मोहल्ले में रसूख है। लोगों ने बताया कि वह बीजेपी से जुड़ा हुआ है और उसकी राशन की दुकान भी है। इसके अलावा वह दो नम्बर क काम भी करता है जैसे लोगों को सट्टा खिलाना आदि। और हर इंसान को यहां तक कि पुलिस को भी मनोज मित्तल के सट्टा खेलने के बारे में जानकारी है।

Kanjhawala Case: केजरीवाल सरकार पीड़ित परिवार को देगी 10 लाख की आर्थिक मदद

Related Post