Wednesday, 24 July 2024

प्रसिद्ध उद्योगपति रतन टाटा का रोचक किस्सा हुआ वायरल, आप भी जान लीजिए क्या है मामला

Ratan Tata : प्रसिद्ध उद्योगपति रतन टाटा पूरे 86 वर्ष के हो गए हैं। रतन टाटा ने बृहस्पतिवार (कल) अपना…

प्रसिद्ध उद्योगपति रतन टाटा का रोचक किस्सा हुआ वायरल, आप भी जान लीजिए क्या है मामला

Ratan Tata : प्रसिद्ध उद्योगपति रतन टाटा पूरे 86 वर्ष के हो गए हैं। रतन टाटा ने बृहस्पतिवार (कल) अपना जन्मदिन मनाया है। इस दौरान जाने-माने उद्योगपति रतन टाटा के जीवन से जुड़ा हुआ एक रोचक किस्सा सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है। रतन टाटा के जीवन से जुड़े इस अनोखे किस्से को लोग खूब मजे ले-लेकर पढ़ रहे हैं। अधिकतर यूजर इस मामले में रतन टाटा की हिम्मत की खूब तारीफ कर रहे हैं। क्या है यह पूरा मामला नीचे आप भी पढ़ लीजिए।

Ratan Tata

टाटा मोटर्स से जुड़ा हुआ है किस्सा

आपको बता दें कि यह किस्सा 90 के दशक का है। जब Tata Sons के चेयरमैन रतन टाटा ने नेतृत्व में टाटा मोटर्स ने अपनी कार टाटा इंडिका तो लॉन्च किया था। लेकिन, उस समय टाटा की कारों की सेल उस हिसाब से नहीं हो रही थी, जैसा रतन टाटा ने सोचा था। टाटा इंडिका को खराब रिस्पांस मिलने और लगातार बढ़ते घाटे के चलते उन्होंने पैसेंजर कार डिवीजन (Passenger Car Business) को बेचने का फैसला कर लिया था और इसके लिए में अमेरिकन कार निर्माता कंपनी Ford Motors से बात की। जब रतन टाटा ने अपने पैसेंजर कार बिजनेस को Ford Motors को बेचने का फैसला किया। तो Ford के चेयरमैन Bill Ford ने उनका मजाक उड़ाया था।

बिल फोर्ड ने उनसे कहा था कि अगर आपको कुछ जानकारी नहीं है, तो फिर आपने पैसेंजर कार डिवीजन की आखिर शुरुआत ही क्यों की? बिल यहीं नहीं रुके और उन्होंने कहा कि अगर हम आपके इस बिजनेस को खरीदते हैं, तो ये आपके ऊपर एक एहसान होगा। रतन टाटा के दिलो-दिमाग में बिल फोर्ड की ये बातें घर कर गईं, लेकिन उन्होंने अपने स्वाभाव के अनुसार फटाफट कोई रिएक्ट नहीं किया और भारत वापस लौट आए।

Bill Ford के साथ मीटिंग के बाद उन्होंने पैसेंजर कार बिजनेस को बेचने का फैसला टाल दिया और फिर भारत में ऑटोमोबाइल क्षेत्र में क्रांति लाने के लक्ष्य में जुट गए। उन्होंने साबित किया कि असफलता, सफलता की ही सीढ़ी होती है। उन्होंने अपना पूरा फोकस Tata Motors को नए मुकाम पर पहुंचाने में लगा दिया और एक दशक से भी कम समय में उन्होंने खुद को इस सेक्टर का बादशाह बनाकर फोर्ड के गलत बर्ताव का ऐसा बदला लिया जो हमेशा याद किया जाएगा।

इस बात को 9 साल का समय बीत गया था और इन सालों में टाटा मोटर्स नई बुलंदियों को छूने के लिए आगे बढ़ रही थी, तो वहीं Ford Motors दिवालिया होने के कगार पर पहुंच गई थी। इस दौरान रतन टाटा के समूह ने फोर्ड के Jaguar और Land Rover ब्रांड को खरीदने की पेशकश कर डाली। इस डील को लेकर जब रतन टाटा और बिल फोर्ड की मीटिंग हुई, तो Ford के चेयरमैन Bill Ford के सुर बदले हुए थे। उन्होंने इस पेशकश के लिए रतन टाटा को थैंक्यू बोला और कहा, आप जैगुआर-लैंड रोवर (JLR) को खरीदकर हमारे ऊपर एक बहुत बड़ा उपकार कर रहे हैं।

स्टॉफ को परिवार मानते हैं रतन टाटा

आपको बता दें कि टाटा उद्योग समूह के मालिक रतन टाटा में अनेक विशेषताएं हैं। उनकी सबसे बड़ी विशेषता यह है कि वें अपनी कंपनी के प्रत्येक कर्मचारी (स्टाफ) को अपने परिवार का सदस्य मानते हैं। कहने के लिए बहुत से लोग स्टाफ को परिवार कहते हैं, किन्तु रतन टाटा ईमानदारी से इस बात का पालन करते हैं कि उनके किसी कर्मचारी को कोई परेशानी अथवा कष्ट न होने पाए। ऐसे हैं प्रसिद्ध उद्योगपति रतन टाटा।

यूपी में निकली सब इंस्पेक्टरों की बंपर भर्ती, जानें कब तक किया जा सकता है अप्लाई

देश विदेश  की खबरों से अपडेट रहने लिए चेतना मंच  के साथ जुड़े रहें।

देश-दुनिया की लेटेस्ट खबरों से अपडेट रहने के लिए हमें  फेसबुक  पर लाइक करें या  ट्विटर  पर फॉलो करें।

Related Post