Tuesday, 23 July 2024

उत्तर प्रदेश में पेपर लीक करने वाले को होगी उम्रकैद, सरकार लाई अध्यादेश

UP News :  उत्तर प्रदेश सरकार ने एक और बड़ा फैसला किया है। उत्तर प्रदेश सरकार ने कानून बना दिया…

उत्तर प्रदेश में पेपर लीक करने वाले को होगी उम्रकैद, सरकार लाई अध्यादेश

UP News :  उत्तर प्रदेश सरकार ने एक और बड़ा फैसला किया है। उत्तर प्रदेश सरकार ने कानून बना दिया है कि उत्तर प्रदेश में पेपर लीक करने वाले को उम्रकैद की सजा दी जाएगी। इतना ही नहीं उत्तर प्रदेश सरकार ने यह फैसला भी लिया है कि पेपर लीक के मामले में एक करोड़ रूपए तक का जुर्माना लगेगा।

UP News

पेपर लीक पर सरकार सख्त

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश में सिपाही भर्ती परीक्षा और आरओ-एआरओ परीक्षा में हुए पेपर लीक को देखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार सख्त हो गई है। उत्तर प्रदेश सरकार अब यूपी सार्वजनिक परीक्षा अध्यादेश 2024 लेकर आई है। इसके तहत पेपर लीक में दोषी पाए जाने पर आजीवन कारावास तक और एक करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा। इस प्रस्ताव को योगी कैबिनेट ने मंजूरी दे दी है। वहीं, पेपर लीक या अन्य कारणों से परीक्षा प्रभावित होती है तो उस पर आने वाले खर्च की भरपाई सॉल्वर गैंग से वसूली कर की जाएगी। साथ ही परीक्षा में गड़बड़ी करने वाली कंपनियों और सेवा प्रदाताओं को हमेशा के लिए ब्लैक लिस्ट किया जाएगा।

उत्तर प्रदेश के CM योगी आदित्यनाथ ने लोकसभा चुनावों के दौरान ही नकल माफियाओं पर नकेल कसने के लिए सख्त कानून लाने की बात कही थी। इस कड़ी में अब उत्तर प्रदेश सरकार ने बड़ा कदम उठाया है। एक प्रेस नोट में सरकार ने कहा कि फर्जी प्रश्नपत्र बांटना, फर्जी सेवायोजन वेबसाइट बनाना इत्यादि भी दंडनीय अपराध बनाए गए हैं। अधिनियम के प्रावधानों के उल्लंघन के लिये न्यूनतम दो वर्ष से लेकर आजीवन कारावास की सजा तथा एक करोड़ रूपये तक के दंड का भी प्रावधान किया गया है। इसके अलावा यदि परीक्षा प्रभावित होती है तो उस पर आने वाले वित्तीय भार को सॉल्वर गैंग से वसूलने तथा परीक्षा में गड़बड़ी करने वाली कंपनियों तथा सेवा प्रदाताओं को हमेशा के लिए ब्लैक लिस्ट करने का भी प्रावधान किया गया है। दोषी की संपत्ति भी कुर्क की जा सकती है. जमानत भी आसानी से नहीं मिलेगी।

पेपर लीक से हो रही थी बदनामी

दरअसल, उतर प्रदेश में कई भर्ती परीक्षाओं में गड़बड़ी के मामले सामने आ चुके हैं। खासकर यूपी पुलिस की सिपाही भर्ती और आरओ/एआरओ भर्ती परीक्षा के पेपर लीक होने के बाद कई सवाल खड़े हुए थे। इसमें परीक्षा संचालित कराने वाली संस्थाएं भी कठघरे में रहीं। ऐसे में उत्तर प्रदेश के CM योगी ने इसे गंभीरता से लेते हुए फुलप्रूफ परीक्षा कराने के लिए नए सिरे से व्यवस्था करने के साथ ही कानून बनाने के निर्देश दिए थे। उत्तर प्रदेश में कई बार पेपर लीक हुए हैं। पेपर लीक होने से उत्तर प्रदेश सरकार की पूरी दुनिया में बदनामी हो रही थी। अब उत्तर प्रदेश सरकार ने पेपर लीक के मसले पर कड़ी चोट कर दी है। UP News

नोएडा के सांसद डॉ. महेश शर्मा ने संस्कृत में ली शपथ, दर्ज की है सबसे बड़ी जीत

ग्रेटर नोएडा – नोएडा की खबरों से अपडेट रहने के लिए चेतना मंच से जुड़े रहें।

देशदुनिया की लेटेस्ट खबरों से अपडेट रहने के लिए हमें  फेसबुक  पर लाइक करें या  ट्विटर  पर फॉलो करे

Related Post