Friday, 19 July 2024

उत्तर प्रदेश सरकार का सबसे बड़ा फैसला, डीएसपी को बना दिया सिपाही

UP News :  उत्तर प्रदेश सरकार ने अनुशासन के मामले में अब तक का सबसे बड़ा फैसला किया है। उत्तर…

उत्तर प्रदेश सरकार का सबसे बड़ा फैसला, डीएसपी को बना दिया सिपाही

UP News :  उत्तर प्रदेश सरकार ने अनुशासन के मामले में अब तक का सबसे बड़ा फैसला किया है। उत्तर प्रदेश सरकार ने अपने फैसले से उत्तर प्रदेश पुलिस के एक DSP को सिपाही बना दिया। उत्तर प्रदेश की सरकार ने यह बड़ा तथा कड़ा फैसला सजा के तौर पर किया है। उत्तर प्रदेश के इस फैसले के कारण उत्तर प्रदेश पुलिस के साथ ही साथ सरकारी विभागों में हड़कंप मच गया है। उत्तर प्रदेश सरकार के निर्देश पर यह बड़ा फैसला उत्तर प्रदेश की महिला IPS अधिकारी नीरा रावत ने किया है। इस कड़े फैसले के बाद नीरा रावत की भी खूब चर्चा हो रही है।

क्या है पूरा मामला

उत्तर प्रदेश सरकार ने अब से पहले इतनी सख्त कार्यवाही कभी नहीं की थी। सरकार ने उत्तर प्रदेश पुलिस के DSP कृपा शंकर कन्नौजिया को DSP के पद से डिमोट करते हुए सिपाही बना दिया है। कन्नौजिया ने उत्तर प्रदेश पुलिस में सिपाही के तौर पर ही नौकरी शुरू की थी। कृपाशंकर कन्नौजिया 59 वर्ष के हो चुके हैं। अगले साल उनका रिटायरमेंट होना है। एक होटल के कमरे में महिला सिपाही के साथ मौज-मस्ती करते हुए पकड़े जाने के बाद कृपाशंकर कन्नौजिया पर उत्तर प्रदेश की एडीजी (प्रशासन) IPS अधिकारी नीरा रावत ने कन्नौजिया को DSP से सिपाही बनाने का आदेश जारी किया है।

UP News

उत्तर प्रदेश सरकार के फैसले की हो रही है खूब चर्चा

उत्तर प्रदेश के उन्नाव में तैनात पुलिस उपाधीक्षक कृपा शंकर कनौजिया का डिमोशन कर दिया गया है। उन्नाव में सीओ रहे कृपा शंकर कनौजिया को डिप्टी एसपी के पद से डिमोट कर कॉन्स्टेबल बना दिया गया है। उत्तर प्रदेश सरकार ने घटना के बाद उनको निलंबित करने के बाद विभागीय जांच का आदेश दिया था। कृपा शंकर को पुलिस आचरण नियमावली का उल्लंघन करने का दोषी पाया गया था। प्रदेश सरकार ने कृपा शंकर का डिमोशन कर फिर से सिपाही बनाने की सिफारिश की थी। इसके बाद एडीजी प्रशासन ने कृपा शंकर कनौजिया को सीओ से सिपाही बनाने का आदेश जारी कर दिया है। अब उनकी पोस्टिंग उत्तर प्रदेश की 26वीं PS वाहिनी गोरखपुर में की गई है।
यह मामला पूरे उत्तर प्रदेश में चर्चा का विषय बना हुआ है। इस मामले में सरकारी विभागों में बहुत बड़ा संदेश दिया गया है। उत्तर प्रदेश के सभी सरकारी कर्मचारी व अधिकारी पद पर रहते हुए कोई गलती करते समय सौ बार सोचेंगे।

नीरा रावत भी चर्चा में

उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से DSP को सिपाही बनाने का आदेश देने वाली IPS. नीरा रावत भी चर्चा में आग गई हैं। दिल्ली की रहने वाली नीरा रावत का जन्म 26 अप्रैल 1966 को हुआ था, उनके पिता का नाम केके रावत हैं। नीरा रावत 1992 बैच की आईपीएस अधिकारी है। आईपीएस नीरा रावत ने बीएससी जूलॉजी ऑनर्स में ग्रेजुएशन किया है। नीरा रावत मौजूदा समय में एडीजी प्रशासन के साथ-साथ यूपी डायल 112 में एडीजी के पद की भी जिम्मेदारी संभाल रही है। बताते चले कि पिछले साल नवंबर महीने में डायल 112 की संविदा महिलाकर्मियों के प्रदर्शन के बाद बड़ा बदलाव हुआ था। विवाद के बाद डायल 112 के एडीजी अशोक कुमार को हटाकर एडीजी प्रशासन की जिम्मेदारी संभाल रहीं नीरा रावत को यहां का एडीजी बनाया गया है। IPS नीरा रावत इससे पहले वीमेन हेल्पलाइन 1090 की एडीजी भी रह चुकी है। UP News

देश में पहली बार स्पीकर पद के लिए चुनाव, बुधवार को होगा फैसला

ग्रेटर नोएडा – नोएडा की खबरों से अपडेट रहने के लिए चेतना मंच से जुड़े रहें।

देशदुनिया की लेटेस्ट खबरों से अपडेट रहने के लिए हमें  फेसबुक  पर लाइक करें या  ट्विटर  पर फॉलो करे

Related Post